image

नई दिल्ली : सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त की गई प्रशासकों की समिति ने निर्णय लिया है कि हितों के टकराव मामले में लोकपाल के साथ मुंबई इंडियन के मेंटॉर सचिन तेंदुलकर और सनराइजर्स हैदराबाद के मेंटॉर वी.वी.एस. लक्ष्मण की होने वाली बैठक में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का कोई प्रतिनिधि मौजूद नहीं होगा। लोकपाल डी.के. जैन आईपीएल की टीम मुंबई इंडियंस के मेंटॉर तेंदुलकर और सनराइजर्स हैदराबाद के मेंटॉर के खिलाफ हितों के टकराव के मामले में बैठक करेंगे। सीओए प्रमुख विनोद राय ने बताया कि भविष्य में बोर्ड केवल एक रेफरेंस के रूप में कार्य करेगा।

READ NEWS :IPL-12 : दिल्ली ने जीता टॉस, बेंगलुरू ने टीम में किए तीन बदलाव

राय ने कहा, ‘‘बीसीसीआई केवल एक प्वाइंट आफ रेफरेंस के रूप में काम करेगा ताकि लोकपाल मामले को पूरी तरह से समझ सकें।’’ इससे पहले, दिल्ली कैपिटल्स के सलाहकार सौरभ गांगुली के खिलाफ हितों के टकराव के मामले में हुई बैठक में बीसीसीआई के सीईओ राहुल जाैहरी शामिल थे और उन्होंने इस मामले में बोर्ड का पक्ष भी रखा था। इस पर सवाल उठे थे। गांगुली बोर्ड की क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य हैं और साथ ही दिल्ली कैपिटल्स के सलाहकार भी हैं।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: there will be no representative of bcci in meeting of sachin and laxman with lokpal

More News From sports

Next Stories
image

free stats