image

नई दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अपने ऊपर लगे हितों के टकराव के मामले को खारिज करते हुए दावा किया कि उन्होंने आईपीएल फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियन्स से ना तो ‘‘कोई फायदा’’ उठाया है ना ही वह निर्णय लेने की किसी प्रक्रिया में भागीदार रहे हैं। तेंदुलकर ने रविवार को बीसीसीआई के लोकपाल एवं नैतिक अधिकारी न्यायमूर्ति सेवानिवृत्त डीके जैन के भेजे नोटिस में लिखित जवाब दाखिल किया। तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण को मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ एमपीसीए के सदस्य संजीव गुप्ता द्वारा दायर की गई शिकायत पर नोटिस भेजा गया था। शिकायत के मुताबिक लक्ष्मण और तेंदुलकर ने आईपीएल फ्रेंचाइजी टीमों क्रमश: सनराइजर्स हैदराबाद और मुंबई इंडियन्स के ‘‘सहायक सदस्य’’ और बीसीसीआई के क्रिकेट सलाहकार समिति सीएसी के सदस्य के रुप में दोहरी भूमिका निभाई जिसे कथित हितों के टकराव का मामला बताया गया था।

READ NEWS :KKR vs MI Preview : कोलकाता के लिए करो या मरो वाला मैच, मुंबई का लक्ष्य...

सचिन ने कहा है कि वह किसी भी पद पर काबिज नहीं हैं, न ही उन्होंने कोई निर्णय लिया है। टीम के खिलाड़ियों के चयन सहित, जो फ्रैंचाइजी के शासन या प्रबंधन के अंतर्गत आता है। ‘‘इसलिए बीसीसीआई के नियमों के तहत या अन्यथा, यहां हितों का कोई टकराव नहीं हुआ है।’’ क्रिकेट सलाहकार समिति में उनकी भूमिका के सवाल पर तेंदुलकर ने कहा कि उन्हें 2015 में बीसीसीआई समिति के सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया था और यह नियुक्ति मुंबई इंडियन्स के साथ उनकी भागीदारी के कई वर्ष के बाद हुई थी।

READ NEWS :IPL-12, RCBvsDC : सुपर संडे के पहले मैच में दिल्ली का दम दिखेगा या...

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Sachin Tendulkar reply to BCCI Lokpal DK Jain

More News From sports

Next Stories
image

free stats