image

भारतीय टीम को जीत दिलवाने के बाद कप्तान रोहित शर्मा ने कहा है कि उनका ध्यान राजकोट की परिस्थितियों का फायदा उठाकर केवल जीत हासिल करना था ताकि टीम मुकाबले में बनी रहे। भारत को दिल्ली में पहले ट्वंटी 20 में सात विकेट से हार झेलनी पड़ी थी, लेकिन दूसरे मैच को जीतकर उसने अब तीन मैचों की सीरीज़ में 1-1 की बराबरी हासिल कर ली है। 

रोहित ने मैच विजयी पारी खेलते हुये 43 गेंदों में छह चौके और छह छक्के लगाकर 85 रन बनाये और मैन ऑफ द मैच रहने के साथ भारत को मुकाबले में भी बनाये रखा। यह रोहित के करियर का 100वां ट्वंटी 20 मैच था। मैच के बाद रोहित ने अपने खिलाड़ियों की तारीफ करते हुये कहा,‘‘ दोनों वाशिंगटन सुंदर और चहल अपनी गेंदबाज़ी को समझते हैं। अहम यह है कि वह हमेशा समीक्षा करते हैं कि इसमें सुधार कैसे कर सकते हैं। चहल ने मुश्किल स्थितियों में गेंदबाज़ी करते हुये टीम को उबारा है। इससे उनका आत्मविश्वास बढ़ा है। वहीं वाशिंगटन नई गेंद जैसे हमारे नये गेंदबाज़ हैं।’’          

कप्तान ने कहा,‘‘ मैं काफी भावुक इंसान हूं। हमने कई गलतियां कीं और मैं उसे स्वीकार करता हूं। लेकिन हमारा पूरा ध्यान मैच जीतने के लक्ष्य पर ही था। हम जानते थे कि राजकोट का ट्रैक बहुत बढ़िया है, हमें पता था कि गेंदबाजों को इस पर दूसरी पारी में परेशानी होगी। हमने इसका फायदा उठाया और पावरप्ले में भी अच्छा खेल दिखाया।’’          

स्टार खिलाड़ी ने कहा,‘‘मैंने अपने गेंदबाज़ों को कभी भी कम नहीं आंका है। इन वर्षों में मैंने हमेशा अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहा है। मैं जानता था कि यहां की परिस्थितियां अच्छी हैं इसलिये मैं ट्रैक पर टिककर खेलना चाहता था। 2019 का साल मेरे लिये अच्छा रहा है और मैं इसका समापन भी अच्छे ढंग से करना चाहता हूं।’’   भारत और बंगलादेश अब 10 नवंबर को नागपुर में निर्णायक तीसरे ट्वंटी 20 में खेलने उतरेंगे।


 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Rohit praised the bowlers and said- never underestimated

More News From sports

Next Stories
image

free stats