image

नई दिल्ली : बांग्लादेशी खिलाड़ी क्राइस्टचर्च हमले में बाल-बाल बचे। टीम की बस इस घटना स्थल से कुछ मीटर दूर थी। बांग्लादेश क्रिकेट टीम के प्रदर्शन विश्लेषक श्रीनिवास चंद्रशेखरन ने हेगले ओवल मैदान के करीब स्थित मस्जिद में हुए हमले के बारे में कहा कि खिलाड़ियों की योजना शुक्रवार की नमाज के बाद अभ्यास करने की थी। बांग्लादेशी खिलाड़ी क्राइस्टचर्च हमले में बाल-बाल बचे। टीम की बस इस घटना स्थल से कुछ मीटर दूर थी। खिलाड़ियों ने गोली चलने की आवाज सुनी और कुछ क्षण बाद एक महिला को गिरते देखा। कुछ खिलाड़ी घायल महिला की मदद करना चाहते थे, लेकिन तब उन्होंने मस्जिद से डरे हुए लोगों को बाहर निकलते देखा जिनमें से कुछ के खून निकल रहा था।

READ NEWS : सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब श्रीसंत के प्रतिबंध का मामला COA बैठक में उठेगा

भारत के चंद्रशेखरन भी इस बस में थे और उन्होंने बताया, ‘‘हम शुरू में कोई प्रतिक्रिया नहीं दे सके। यह इतनी भयावह स्थिति थी, आपका दिमाग अचानक ही काम करना बंद कर देता है क्योंकि आप डर जाते हो। हम सभी के साथ ऐसा ही हुआ।’’ मुंबई में बसे साफ्टवेयर इंजीनियर चंद्रशेखरन बांग्लादेश टीम के साथ वीडिया विश्लेषक के तौर पर काम करते हैं। उन्होंने कहा कि शुरू में उन्होंने महसूस ही नहीं किया कि यह आंतकी हमला था।

READ NEWS : साइमन कैटिच को भरोसा, फिनिशर की भूमिका निभाकर वर्ल्ड कप का दावा...

चंद्रशेखरन ने कहा, हमने देखा कि लोग जिंदगी बचाने के लिये भाग रहे थे और हर जगह खून था और अचानक ही हम सभी को बस के फर्श पर शांति से लेटने को कहा गया। मुझे नहीं पता कि हम बस के फर्श पर कितने मिनट तक लेटे रहे। जब तक हमें समझ आया, सब शांत हो गया और हमने वही किया जो हमसे कहा गया।’’ आईपीएल फ्रेंचाइजी सनराइजर्स हैदराबाद के साथ काम कर चुके चंद्रशेखरन 2018 में बांग्लादेशी टीम से जुड़े थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Players wanted to practice after namaz in mosque, says Chandrasekharan

More News From sports

free stats