image

कोलकाता : धोनी की कप्तानी और उनकी कूलनेस का हर कोई कायल है। धोनी आज के खिलाड़ियों में से सबसे शातिर क्रिकेटिंग दिमाग वाले प्लेयर हैं। वो भारतीय टीम को अपनी कप्तानी में 2007 में टी20 और 2011 में वनडे विश्व कप जीता चुके हैं। धोनी ग्राउंड पर अकसर शांत दिखते हैं। उन्हें कम ही अपना आपा खोते हुए देखा गया है। भारतीय क्रिकेट टीम के मेंटल कनडिशिंग कोच रहे पैडी अप्टन ने कहा कि जब  धोनी ने वनडे टीम की कप्तानी ली थी तब वह इस बात को सुनिश्चित करते थे कि कोई भी अभ्यास के लिए देरी से न आए। अपनी नई किताब ‘द बेयरफुट कोच’ के एक कार्यक्रम के मौके पर अप्टन ने बताया कि किस तरह उस समय के टेस्ट कप्तान अनिल कुंबले और वनडे कप्तान धोनी नए तरीके और विचार लेकर आए।

READ NEWS : क्रिस गेल फिट रहने के लिए जिम छोड़कर कर रहे ये काम, विश्व कप में छक्के लगाने...

उन्होंने कहा, ‘‘मैं जब भारतीय टीम के साथ जुड़ा तब अनिल कुंबले टेस्ट टीम और धोनी वनडे टीम के कप्तान थे। हमारी टीम में एक बहुत अच्छी स्वशासन की प्रक्रिया थी। हमने टीम से कहा था कि अभ्यास और टीम बैठक के लिए समय पर आना बेहद जरूरी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए हमने टीम से कहा कि अगर कोई खिलाड़ी देरी से आता है तो ऐसी क्या चीज है जो वो छोड़ सकता है ? हमने आपस में यह बात की और खिलाड़ियों ने अंतत: इसे कप्तान के जिम्मे छोड़ दिया।’’ कुंबले ने कहा कि देर से आने वाले पर 10,000 रुपये जुर्माना लगेगा, लेकिन धोनी ने इससे भी बड़ी सजा बताई और कहा कि अगर कोई खिलाड़ी देरी से आता है तो पूरी टीम मिलकर 10,000 रुपये देगी।

READ NEWS : गौतम गंभीर ने किया आगाह, 'हार्दिक और विजय शंकर विश्व कप में ये...

अप्टन ने कहा, ‘‘टेस्ट टीम में कुंबले ने कहा था कि देरी से आने पर 10,000 का जुर्माना होगा, लेकिन जब हमने वनडे टीम के कप्तान धोनी से बात की तो उन्होंने कहा कि सजा मिलनी चाहिए इसलिए अगर कोई देरी से आता है तो टीम को 10,000 रुपये का जुर्माना देना होगा। वनडे टीम में कोई भी कभी भी देरी से नहीं आता था।’’ अप्टन ने धोनी के शांतचित्त रहने की तारीफ की और कहा, ‘‘उनकी असल क्षमता उनका शांत रहना है। मैच में कैसी भी स्थिति हो वह शांत रहते हैं।’’

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: MS Dhoni ensure that no one came late for the practice, Says paddy Upton

More News From sports

Next Stories
image

free stats