image

मैनचेस्टर : भारत विश्व कप के अपने छठे लीग मैच में जब सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी वेस्टइंडीज से भिड़ेगा तो टीम प्रबंधन की मुख्य चिंता महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी और उनका बल्लेबाजी क्रम होगी। लीग चरण अपने अंत की ओर बढ़ रहा है और ऐसे में भारत एक और जीत के साथ सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की करना चाहेगा। लेकिन यह कहना जितना आसान है उसे करना उतना आसान नहीं होगा। वेस्टइंडीज की टीम के पास गंवाने के लिए कुछ नहीं है और वे बाकी मैचों में अन्य टीमों का समीकरण बिगाड़ने की कोशिश करेगी। दूसरे पावर प्ले के महत्वपूर्ण ओवरों में पूर्व कप्तान धोनी की विफलता ने कप्तान विराट कोहली की चिंता थोड़ी बढ़ाई है।

READ NEWS : ICC World Cup, NZvsPAK : आउटफील्ड गीला होने के चलते टॉस में देरी

धोनी ने अफगानिस्तान के खिलाफ बेहद धीमी बल्लेबाजी करते हुए 52 गेंद में 28 रन बनाए और इसके लिए उन्हें काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा। यहां तक कि आम तौर पर शांत रहने वाले सचिन तेंदुलकर ने भी उनके रवैये पर सवाल उठाए थे। तेंदुलकर ने टीवी चैनल पर कहा, ‘‘कोई सकारात्मक रवैया नजर नहीं आता।’’ टीम प्रबंधन भी इस समस्या से वाकिफ है, लेकिन अब जब चार लीग मैच बचे हैं तब उनके पास एकमात्र विकल्प धोनी के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव करना है। संभवत: इससे केदार जाधव को अधिक गेंद खेलने को मिल सकती हैं जो अपने शाट चयन में नयापन लाने के लिए पहचाने जाते हैं।

READ NEWS : ICC Word Cup : आपको पता है इंग्लैंड में विराट कोहली किस वजह से...

आईपीएल में धोनी की बल्लेबाजी और भारत के लिए 50 ओवर के प्रारुप में उनके प्रदर्शन में अंतर को लेकर काफी बहस हो रही है। चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से खेलते हुए धोनी ने भारत के एक अनुभवहीन घरेलू गेंदबाज को निशाना बनाया, जबकि बड़े अंतरराष्ट्रीय नामों के खिलाफ सुरक्षित क्रिकेट खेला। लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करने के दौरान उन्होंने कागिसो रबादा या जोप्रा आर्चर जैसे गेंदबाजों के खिलाफ कोई जोखिम नहीं उठाया, जबकि अन्य गेंदबाजों के खिलाफ रन जुटाए। टीम को धोनी की रणनीति और तेजतर्रार विकेटकीपिंग की जरूरत है और ऐसे में कप्तान और कोच को उनकी भूमिका पर काफी माथापच्ची करनी होगी।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: INDvsWI : All eyes on MS Dhoni's approach

More News From sports

Next Stories
image

free stats