image

चंडीगढ़: फिरोजपुर से चुने गए सांसद एवं अकालीदल के प्रधान सुखबीर बादल और होशियारपुर से चुनाव जीतने वाले भाजपा नेता सोमप्रकाश को चौदह दिन के अंदर पंजाब विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देना होगा। इस समयावधि के अंदर अगर दोनों नेता इस्तीफा नहीं देते तो उनकी लोकसभा की सदस्यता खतरे में पड़ सकती है। नियमानुसार अन्य सीट से जीत का सर्टीफिकेट मिलने के बाद सदस्य अपनी इच्छावश एक सदन की सदस्यता को बरकरार रख सकता है जबकि दूसरे सदन से उसे इस्तीफा देना होगा।

पंजाव बिधानसभा के स्पीकर राणा के.पी. सिंह ने पंजाब विधानसभा की रुलिंग का हवाला देते हुए बताया कि पहले विधानसभा और बाद में लोकसभा की सदस्यता मिलने के बाद संबंधित सदस्य को 14 दिन के अंदर किसी एक सदन की सदस्यता से इस्तीफा देना होगा। ऐसा नहीं करने पर उनकी दूसरे सदन की सदस्यता स्वत: खारिज हो जाती है। 

पंजाब विधानसभा के दि कंडक्ट आफ इलैक्शन रुल्स 1961 के रुल 91 के मुताबिक कोई भी सदस्य विधानसभा की सदस्यता के बाद संसद का भी सदस्य चुना जाता है, तो उसे एक सदन से इस्तीफा देना होगा। धारा 67 के मुताबिक चुनाव की तारीख से 14 दिन के अंदर-अंदर एक सदन से इस्तीफा देना होगा। ऐसा न करने की सूरत में दूसरे सदन की सदस्यता स्वत: खारिज हो जाती है। 

पंजाब विधानसभा के पूर्व स्पीकर बीर दविंदर सिंह ने कहा कि दोनों नेताओं को नियमत: इसी समयावधि के अंदर इस्तीफा देना होगा और यह नियम भी है। पैंशन को लेकर किए गए सवाल के जबाव में उन्होंने कहा कि पहले दे साल की शर्त थी लेकिन अब शायद इसमें कुछ संशोधन किया गया है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Sukhbir and Somprakash should give within 14 days to resign from the legislative post

More News From punjab

Next Stories
image

free stats