image

चंडीगढ़: मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल द्वारा बरगाड़ी मुद्दे पर मगरमच्छ के आंसू बहाने की खिल्ली उड़ाते हुए स्पष्ट किया कि उनकी सरकार बरगाड़ी घटना के साथ जुड़े मामले की तह तक जाने के लिए पूरी पैरवी करेगी। बरगाड़ी मामले में सी.बी.आई. की क्लोजर रिपोर्ट को अकाली दल द्वारा चुनौती देने के फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने सुखबीर बादल को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वह इस मुद्दे पर चिंतित होने का बहाना करके लोगों को मूर्ख बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सुखबीर बादल जो उस समय राज्य के उप-मुख्यमंत्री और गृह मंत्री थे, ने इस मामले की जांच स्वयं करवाने की बजाय बरगाड़ी कांड से संबंधित पहले 3 मामलों को सी.बी.आई. के पास भेज दिया। उन्होंने कहा कि अब जब सी.बी.आई. ने अपनी जांच मुकम्मल करके केस बंद करने की रिपोर्ट दायर कर दी तो सुखबीर बादल बौखला गए जिससे इस समूचे मामले में किसी स्तर पर साजिश होने का संकेत मिलता है।

मुख्यमंत्री ने सुखबीर से कहा कि वह यह बात न भूले कि यदि वह अब भी सी.बी.आई. की क्लोजर रिपोर्ट को चुनौती देना चाहता है तो केंद्र में एन.डी.ए. की सरकार है जिसमें अकाली दल भी हिस्सेदार है। उन्होंने अकाली दल के प्रधान को कहा कि वह तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर और गलत मुद्दे उठाकर लोगों की आंखों में धूल झौंकने की कोशिश बंद करे।

गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी और इसके बाद शांतमयी ढंग से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस द्वारा गोली चलाने की घटनाओं में शामिल व्यक्तियों पर कानूनी कार्रवाई करने के वायदे को दोराते हुए कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने कहा कि उनकी सरकार इस घटना के पर्दे के पीछे की समूची साजिश का पर्दाफाश करने के लिए वचनबद्ध है। इसी दौरान मुख्यमंत्री ने राज्य के एडवोकेट जनरल अतुल नंदा को इस मामले की तह तक जाने के लिए सभी कानूनी पक्ष जांचने के लिए कहा।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Stop the tear of the crocodile on the Sukhbir Barghadi issue: Amarinder Singh

More News From punjab

Next Stories
image

free stats