image

अमृतसर: आतंकवादी गतिविधियों के आरोप में कोर्ट ने हरियाणा निवासी रतनजीत सिंह (45) को पांच साल की कैद और 20 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। वह हरियाणा में जींद जिले के सफीदों के रोड़े गांव का निवासी है। अतिरिक्त जिला सत्र न्यायधीश सर्बजीत सिंह धालीवाल की कोर्ट ने फैसला सुनाया कि जुर्माना अदा न करने पर दोषी को 2 महीने की अतिरिक्त कैद काटनी होगी। पंजाब पुलिस की खुफिया एजैंसी स्टेट स्पेशल आप्रेशन सैल ने 15 जून 2010 को खुलाया किया था कि अमृतसर में कार बम धमाके की साजिश रची गई थी। इसी केस में दूसरे आतंकियों को सजा सुनाई जा चुकी है। रतनजीत सिंह विदेश भाग गया था। वह 2014 में पकड़ा गया था।

कई आतंकियों को पहले ही सजा हो चुकी है
*स्टेट आप्रेशन सैल के इंस्पैक्टर हरविंदरपाल सिंह ने बताया कि तरन तारन में खलचियां से रतनगढ़ पिंड के सुखदेव सिंह सूखा को पकड़ा गया था। उसके पास ए.के.-47 राइफल, 50 गोलियां, एक पिस्टल बरामद किया गया था। उसकी निशानदेही पर कई गिरफ्तारियां की गई थीं। इनसे एक किलोग्राम आर.डी.एक्स. विस्फोटक के अलावा 3 ए.के.-47 राइफलें, 500 से ज्यादा गोलियां, एक मशीन गन, 2 रिवाल्वर वगैरा बरामद किए गए थे।
*आरोपी रतनजीत सिंह एफ.आई.आर.दर्ज होने के बाद विदेश भाग गया था। 2014 में उसे नेपाल बार्डर से पकड़ा गया। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने गांव सूर सिंह तरनतारन से एक जमीन से ए.के.-47 राइफल, 30 गोलियां तथा .30 बोर का पिस्तौल बरामद किया था। 
*आतंकी सुखदेव सिंह सूखा निवासी गांव सूर सिंह जिला तरनतारन, गुरजिंदर सिंह उर्फ हीरा निवासी खलचियां, गुरजीत सिंह गांव सूर सिंह, गांव भिखीविंड, जिला तरनतारन, जोगा सिंह निवासी रतनगढ़ खलचियां, गुरमीत सिंह निवासी खलचियां, शेर सिंह निवासी सूर सिंह, जिला तरनतारन को कोर्ट ने 2014 में 10-10 साल की सजा सुनाई थी।
*इस केस में अन्य आरोपी नारायण सिंह चौड़ा निवासी डेरा बाबा नानक, जिला गुरदासपुर और पाल सिंह निवासी शाहकोट, जालंधर बरी हो चुके हैं। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Returned from abroad terrorist Rattandeep Singh imprisonment of 5 years

More News From punjab

Next Stories
image

IPL 2019 News Update
free stats