image

चंडीगढ़: देश में पानी की बिगड़ रही स्थिति से निपटने के लिए आम सहमति बनाने और राष्ट्र व्यापक नीति तैयार करने के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने प्रधानमंत्री की अध्यक्षता अधीन सर्वदलीय बैठक का न्यौता दिया। मुख्यमंत्री ने यह सुझाव जल शक्ति मंत्री गजेंदर सिंह शेखावत के साथ एक शिष्टाचार मुलाकात के दौरान दिया। 

शेखावत के साथ मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि पानी एक राष्ट्रीय समस्या है और इसको राष्ट्रीय स्तर पर विचारने और हल किए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सर्वदलीय बैठकें क्षेत्रवार भी की जा सकती हैं जिससे इस संबंधी प्रक्रिया को और ज्यादा प्रभावी और असरदार बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि हरेक बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री द्वारा की जानी चाहिए। उन्होंने देश में पानी के संकट की बिगड़ती स्थिति पर चिंता प्रकट की। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस अनमोल कुदरती स्नेत को बचाने के लिए ये बैठकें आम सहमति बनाने में मददगार होंगी। 

एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्रीय मंत्री के साथ बैठक के दौरान एस.वाई.एल. मुद्दे पर कोई भी विचार नहीं हुआ क्योंकि मामला अदालत में विचाराधीन है। मुख्यमंत्री ने बताया कि मीटिंग के दौरान पंजाब के बुड्ढा नाले की समस्या संबंधी विचार किया गया और उन्होंने शेखावत को भरोसा दिलाया कि इसकी सफाई के काम की प्रक्रिया चल रही है। राज्य सरकार ने इस काम के लिए 2 साल की समय सीमा निर्धारित की है। कै. अमरेन्द्र ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि विभिन्न उद्योगों के गंदे पानी से बुड्ढा नाले को आगे और प्रभावित होने से रोकने को यकीनी बनाने के लिए एस.टी.पीज को कार्यशील किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रंगाई उद्योग इस समस्या का बड़ा कारण है। शेखावत ने ‘पंजाब बिजली बचाओ, पैसा कमाओ’ स्कीम की प्रशंसा की। 

केंद्रीय मंत्री ने पंजाब को धान की काश्त घटाने के लिए कहा
सिंचाई मकसद के लिए 85 प्रतिशत पानी का प्रयोग किए जाने का जिक्र करते हुए शेखावत ने बताया कि अगर कृषि के लिए इस्तेमाल किए जा रहे पानी में से 10 प्रतिशत पानी बचा लिया जाए तो अगले 50 सालों में भारत का पानी संकट हल हो सकता है। उन्होंने कहा कि पंजाब को इस मुहिम का नेतृत्व करना चाहिए और पानी को बचाने के लिए लोगों को उत्साहित करना चाहिए। कैप्टन अमरेन्द्र ने बताया कि राज्य सरकार ने बेकार हो चुके ट्यूबवैलों के द्वारा भूजल को रिचार्ज करने के लिए एक प्रमुख प्रोग्राम शुरू करने की योजना बनाई है। केंद्रीय मंत्री ने धान की काश्त घटाने के लिए पंजाब को कहा है। इसके समर्थन के तौर पर कैप्टन ने मक्की जैसी वैकल्पिक फसलों की एम.एस.पी. पर केंद्र सरकार द्वारा खरीदे जाने की जरूरत पर जोर दिया।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Recommendations for convening an all-party meeting under the chairmanship of Amarinder

More News From punjab

Next Stories
image

free stats