image

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने अनाज के भंडारण के लिए ढकी हुई जगह की भारी कमी से निपटने के लिए राज्य में वैज्ञानिक तरीके से अनाज के भंडारण के लिए 20 लाख मीट्रिक टन के सामथ्र्य के ढके गोदामों के निर्माण की आज्ञा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से हस्तक्षेप की मांग की है। प्रधानमंत्री को लिखे गए एक पत्र में कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने उनसे अपील की है कि वह भारत सरकार या एफ.सी.आई की 7 वर्षीय गारंटी के तहत 20 लाख मीट्रिक टन सामथ्र्य के ढके हुए गोदामों के निर्माण की आज्ञा देने के लिए भारत सरकार के खाद्य मंत्रलय को निर्देश दें।

पत्र में कहा है कि पिछले कुछ सीजनों के दौरान अथाह फसल होने के कारण पंजाब से अनाज उठाने की गति बहुत धीमी रही है। इसी कारण ढके हुए स्टोरेज की जगह की बहुत ज्यादा कमी पैदा हो गई है। इसके परिणामस्वरूप राज्य में से 280 लाख मीट्रिक टन में से 100 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूँ इस समय पर खुले में स्टोर किया हुया है। उन्होंने कहा कि गैर मौसमी बारिश के कारण इस साल स्थिति बहुत गंभीर बनी रही जिसके नतीजे की वजह से ढील दी गई स्पैसीफिकेशनों ( यू.आर.एस) के आधार पर गेहूं की विशेष मात्र की खरीद की गई।  

हालांकि एफ़.सी.आई. ने राज्य में रेलवे पटरी के पास 21 लाख मीट्रिक टन की क्षमता के अतिरिक्त सायलोज के निर्माण की मंजूरी दे दी है। इनके निर्माण के लिए 4-5 साल या इससे अधिक का समय लगेगा। उन्होंने कहा कि स्टोरेज की उचित जगह की कमी के परिणामस्वरूप राज्य की खरीद एजैंसियों को आगामी सीजन के दौरान उचित स्थानों पर गेहूं का भंडारण करना पड़ेगा। इससे गेहूं के स्टॉक को नुक्सान होगा। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक तरीके से गोदाम के निर्माण के लिए आम तौर पर तकरीबन 10 महीने लगते हैं और अगले रबी 2020-21 का सीजन शुरू होने के लिए अब सिर्फ 10 महीने ही बचे हैं। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Punjab Chief Minister Captain sent letter to PM to create silos in Punjab

More News From punjab

Next Stories
image

free stats