image

नई दिल्ली : भारत और पाकिस्तान ने मंगलवार को करतारपुर कॉरिडोर से जुड़े मुद्दों पर चर्चा के लिए तकनीकी विशेषज्ञों की एक बैठक की। इस बैठक में गलियारे के निर्माण के विभिन्न इंजीनियंिरग पहलुओं पर चर्चा की गई। सूत्रों ने यह जानकारी दी। यह बैठक तब हुई जब पिछले दिनों दोनों देशों ने पाकिस्तान के करतारपुर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब को पंजाब के गुरदासपुर जिले से जोड़ने वाले गलियारे के निर्माण की रुपरेखा को अंतिम रुप देने के लिए बातचीत की थी। सूत्रों ने बताया कि इंजीनियरों और सर्वेक्षकों सहित विशेषज्ञ स्तर की तकनीकी बैठक प्रस्तावित ‘‘जीरो पॉइंट’’ पर हुई। बीते 14 मार्च को हुई बैठक में हुए निर्णय पर आगे का कदम उठाने के लिए यह बातचीत हुई। 
भारत लंबे समय से यह बैठक करने का इच्छुक था। उसने बीते 15 फरवरी को ही यह बैठक करने का सुझाव दिया था। लेकिन पाकिस्तान ने इस बैठक को मसौदा समझौते से जोड़ दिया था। सूत्रों ने बताया कि विशेषज्ञों ने कॉरिडोर की रुपरेखा, कॉर्डिनेट और प्रस्तावित ‘क्रॉसिंग पॉइंट’ के इंजीनियरिंग पहलुओं पर चर्चा की।
 मंगलवार को निर्माण स्थल का जायजा लिए जाने और सर्वे के नतीजों पर दो अप्रैल को होने वाली बैठक में चर्चा की जाएगी।‘जीरो पॉइंट’ वह जगह है जहां पर कॉरिडोर का भारतीय हिस्सा और पाकिस्तानी हिस्सा मिलेगा। भारत ने इस साल की शुरुआत में पाकिस्तान के साथ कॉर्डिनेट साझा किया था, लेकिन पाकिस्तानी पक्ष ने अलग कॉर्डिनेट दिए।भारत और पाकिस्तान पिछले साल करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरदासपुर जिले में स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ने के लिए गलियारा बनाने को सहमत हुए थे। सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देवजी ने करतारपुर में अंतिम समय बिताया था।करतारपुर साहिब पाकिस्तान में पंजाब के नरोवाल जिले में है. रावी नदी के दूसरी ओर स्थित करतारपुर साहिब की डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से दूरी करीब चार किलोमीटर है.

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: India and Pakistan technical talks on the issue of Kartarpur Corridor

free stats