image

चंडीगढ़: पंजाब सरकार की ढाई साल की उपलब्धियों पर अकाली दल की ओर से की गई टीका-टिप्पणी पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने पलटवार किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अकाली-भाजपा सरकार के घटिया प्रदर्शन के कारण उनकी निराशा प्रकट करता है। अकालियों के आरोपों को तख्य और आंकड़ों का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह अकालियों को चैलेंज किया कि वह अपने दस साल के दौरान लोगों की भलाई के लिए की गई एक भी उपलब्धि गिनाए। सरकार की ओर से दावे किए जा रहे हैं लेकिन नशा, बेअदबी जैसे मुद्दे अभी भी लोगों की जुबान पर हैं और विधायकों को अब हलकों में लोगों के सवालों का सामना करना पड़ रहा है।

अकाली नशे की बात न करें तो बेहतर है 
अकालीदल की ओर से नशे का मुद्दा उठाए जाने पर कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने कहा कि 10 साल के अकाली-भाजपा शासनकाल में पंजाब को नशे के दलदल में फंसा दिया लेकिन उनकी सरकार ने विशेष टास्क फोर्स बना कर अभियान चलाया। नशा तस्कर सूबा छोड़ कर भाग गए। 27744 एफ.आई.आर. दर्ज हई जबकि 33,622 व्यक्ति गिरफ्तार हुए। नशे से ग्रस्त लोगों के इलाज के लिए 178 ओ.पी.डी. क्लीनिक में 87,000 लोगों का इलाज करवा चुके हैं। 

9 लाख नौकरिया व रोजगार दिए
कैप्टन अमरेन्द्र ने कहा कि घर-घर रोजगार स्कीम के तहत हर रोज 1034 नौकरियों की दर से 9 लाख नौकरियां या स्वरोजगार के अवसर पैदा किए। 

4700 करोड़ का खेती कर्ज माफ 
10 साल के शासन के बाद खाली मिले खजाने के बाद भी कांग्रेस सरकार ने 4700 करोड़ का खेती कर्ज माफ किया। महात्मा गांधी सरबत विकास योजना के तहत विभिन्न स्कीमों के तहत 9.28 लाख लोगों को लाभ पहुंचाया। 

847 वेलनेस सैंटर खोले
शिक्षा और सेहत के क्षेत्र में सरकार ने बेहतर काम किया। सेहत विभाग ने 847 वेलनेस क्लीनिक स्थापित किए जबकि मार्च 2022 तक 650 ऐसे और क्लीनिक खोले जाएंगे। इसके अलावा पिछले सालों के मुकाबले इस बार 10वीं और 12वीं के बेहतर नतीजे भी आएंगे। 12921 स्कूलों में प्री-प्राइमरी क्लासें शुरु कराई गईं। 6 हजार स्कूलों में इंगलिश मीडियम से पढ़ाई शुरु की गई। 

46 लाख परिवारों को सेहत बीमा सुविधा 
अकाली-भाजपा सरकार सिर्फ 31.4 लाख परिवारों का 2 लाख का सेहत बीमा किया था जबकि कैप्टन सरकार ने 46 लाख परिवारों का 5 लाख रुपये का बीमा कवर मुहैया करवाया। कैप्टन ने कहा कि अगर अकालियों में हिम्मत है तो वह इन तथ्यों को झुठला कर दिखाएं।

यूरिया व डी.ए.पी. की खपत घटाई 
मिशन तंदरुस्त पंजाब के तहत लोगों को मिलावटी खाद्य पदार्थो से बचाने के लिए यूरिया के उपयोग में एक लाख एम.टी. जबकि डी.ए.पी. की खपत में 46,000 एम.टी. की कमी आई और इससे किसानों को 200 करोड़ रुए की बचत हुई। 

50 हजार करोड़ का निवेश हुआ
राज्य में उद्योगों को दोबारा अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए पांच रुपये प्रति यूनिट बिजली मुहैया करा कर 1146 करोड़ की सबसिडी दी गई। इसकी वजह से पंजाब में सिर्फ तीस महीने के अंदर 50 हजार करोड़ का निवेश हासिल किया गया जबकि पिछली सरकार के दस सालों के शासन में सिर्फ 31, 323 करोड़ रुपए का निवेश हुआ था।

ग्रामीण विकास 
स्मार्ट गांवों के लिए 796 करोड़ रुपये खर्च किए। पेयजल पर 460 करोड़ रुरल सेनिटेशन 2.46 लाख रुपए और ग्रामीण सड़कों के लिए 1639 करोड़ रुपए खर्च किए गए। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Chief Minister Captain Amarinder challenges the Akalis, if you have the courage, answer

More News From punjab

Next Stories
image

free stats