image

चंडीगढ़: पंजाब के स्टार प्रचारक एवं कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने आज अकाली-भाजपा गठबंधन को किसानी के मुद्दे पर घेरा। सिद्धू ने कहा कि गठबंधन सरकार ने सन् 2016 में पंजाब खेतीबाड़ी कर्जा निपटारा बिल विधानसभा में पास किया और करोड़ों रुपए विज्ञापन में खर्च किए लेकिन किसानों को कोई राहत मुहैया नहीं कराई। सिद्धू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्पोरेट घरानों का कर्ज माफ किया और बैंकों को कंगाल किया। 

प्रैस क्लब में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए नवजोत सिद्धू ने कहा कि गठबंधन सरकार ने किसान और खेत मजदूरों के कर्ज राहत की घोषणा कर दी और साथ ही कहा कि सभी जिलों में फोरम बनाए जाएंगे जबकि स्टेट लैवल पर भी फोरम का गठन किया जाएगा। यह फोरम दोनों पक्षों के बीच 3 महीने में निपटारा करेगा। फोरम के फैसले को ट्रिब्यूनल में दावा किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जो कानून लागू ही नहीं हुआ तो उसकी घोषणा कैसे कर दी गई। किसानों को राहत देने की बजाय पंजाब सरकार ने बड़े उद्योगपतियों का एक हजार करोड़ का कर्ज माफ कि या जबकि किसानों का एक रुपया भी माफ नहीं किया।

सिद्धू ने कहा कि पैट्रोल और डीजल पर वैट बढ़ाया। यही नहीं मोदी सरकार ने डीजल पैट्रोल पर वैट बढ़ा कर 11 लाख करोड़ रुपए इकट्ठा किया लेकिन किसानों को कुछ नहीं दिया बल्कि किसानों का डीजल महंगा कर दिया।  सिद्धू ने कहा कि भगत पूरन सिंह सेहत बीमा योजना में 4.17 लाख परिवार थे। प्रीमियम के रूप में 18.54 करोड़ वसूला जबकि 2.49 करोड़ रुपए का क्लेम दिया गया। खेत मजदूर 78933 परिवारों के साथ धोखा किया। इसका फायदा रिलायंस कंपनी को दिया गया। मोदी सरकार ने 278 टन सोना गिरवी रखा जबकि देश पर कर्ज 32 लाख करोड़ चढ़ाया। विश्व बैंक ने विकासशील देश का दर्जा छीन लिया। मोदी सरकार ने सरकारी कंपनियों को भिखारी बना दिया। यह मोदी की राष्ट्रभक्ति है और मुख्य मुद्दों से भाग रहे हैं। मोदी से मैं कई सवाल कर चुका हूं लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: badal made the act but did not forgive the farmers' debt: Navjot Sidhu

More News From punjab

Next Stories

image
free stats