image

चंडीगढ़ : जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में वीरवार को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सी.आर.पी.एफ.) के काफिले पर हुए फिदायीन हमले में पंजाब के 4 जवान शहीद हो गए। जवानों के गांवों में मातम का माहौल है। शहीद जवानों के गांवों में शोक की लहर है। पंजाब के 4 शहीदों में मोगा जिले के जैमल सिंह, तरनतारन के सुखजिंदर सिंह, गुरदासपुर के दीनानगर के मनिंदर सिंह अत्री और रोपड़ के कुलविंदर सिंह शामिल हैं। ग्रामीणोें और शहीदों के परिजनों ने हमले पर अपना गुस्सा निकाला और मांग की कि केंद्र सरकार को इन मौतों का बदला लेना चाहिए और पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों को करारा जवाब देना चाहिए। जम्मू एवं कश्मीर में 1989 में आतंकवाद के जन्म के बाद से घाटी में हुए सबसे घातक हमले में सी.आर.पी.एफ. के लगभग 44 सैनिक शहीद हो गए और 38 अन्य घायल हो गए। पूरे पंजाब में पुलवामा आतंकी हमले के विरोध में भारतीय जनता पार्टी सहित अलग-अलग राजनीतिक और सामाजिक संगठनों ने शुक्रवार को पाकिस्तान का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया। इसके अलावा जगहजगह मोमबत्तियां जलाकर शहीदों को श्रद्धाजंलि अर्पित की गई।

Read More मोदी ने सेना को दी खुली छूट, वक्त जगह और प्लान आर्मी करे तैयार

तरनतारन : एक गांववासी गुरनाम सिंह ने कहा, ‘सुखजिंदर का 7 महीने का एक बेटा है जिसका जन्म 8 साल बाद हुआ है। सुखजिंदर कुछ दिन पहले ही अपने बेटे की पहली लोहड़ी पर घर आया था और हाल ही में वापस गया था।’

मोगा : जिले के धर्मकोट उपखंड में घलौटी गांव निवासी जैमल सिंह (44) उस बस का चालक था जिस पर आतंकवादियों ने हमला किया था। उनके पिता जसवंत सिंह ने कहा, ‘हमारा बेटा देश के लिए शहीद हो गया। हालांकि इसकी भरपाई नहीं हो सकती, लेकिन हमारी सरकार और सेना को पाकिस्तान की इस कायराना हरकत के लिए उसे सबक सिखाना चाहिए।’ जैमाल सिंह के घर में उनके बुजुर्ग माता-पिता, पत्नी, 10 वर्षीय बेटा और छोटा भाई है।

Read More भारत ने पाक से छीना MFN का दर्जा, अब और गरीब हो जाएगा पाकिस्तान!

दीनानगर : गुरदासपुर जिले के दीनानगर के शहीद जवान मनिंदर सिंह अत्री के पिता सतपाल अत्री ने कहा कि उनका बेटा 13 फरवरी को ही छुट्टी के बाद ड्यूटी पर गया था और उसने जम्मू पहुंचने के बाद फोन किया था। सतपाल अत्री ने कहा, ‘वह अगले दिन ही शहीद हो गया। हमें उसकी कमी खलेगी, लेकिन हमें उस पर गर्व है।’ मनिंदर सिंह का छोटा भाई भी सी.आर.पी.एफ. में हैं और वर्तमान
में असम में तैनात है।

रोपड़ : पुलवामा हमले में शहीद हुआ एक अन्य सैनिक रोपड़ जिले के आनंदपुर साहिब में पड़ते ब्लॉक नूरपुरबेदी के गांव रौली का कुलविंदर सिंह है। 26 वर्षीय कुलविंदर की वर्ष 2019 में शादी होने वाली थी। कुलविंदर सिंह 5 साल पहले 2014 में भर्ती हुआ था।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: 4 jawan belongs to Punjab in Pulwama Attack

More News From national

Next Stories

image
free stats