image

गढ़शंकर: पुलिस ने लोगों को झूठे केस में फंसाकर ब्लैकमेल करने के आरोप में 2 सहेलियों को काबू किया है। पुलिस को दिए बयान में पीड़ित सेवा सिंह निवासी गांव भज्जल ने बताया कि वह किसी जरूरी काम से बाइक परगांव डघाम की ओर जा रहा था। रास्ते में एक लड़की मिली जिसने अपना नाम रेनू बताया और स्वास्थ्य ज्यादा खराब होने तथा चक्कर आने का बहाना बनाते उसे उसके रिश्तेदारों के पास गांव सूरापुर छोड़ने की बिनती की। जब सेवा सिंह उसके बताए पते पर घर के बाहर छोड़ कर लौटने लगा तो लड़की ने फिर ज्यादा चक्कर आने का बहाना बनाते घर के भीतर तक छोड़ने को कहा। 

सेवा सिंह ने बताया कि जब वह उक्त लड़की को कमरे में छोड़ने गया तो वहां पहले से मौजूद मनीशा नाम की लड़की ने गेट बंद कर दिया और सेवा सिंह को दूसरे कमरे में धक्का देकर ले गए। उस कमरे में पहले से ही दो लड़के तथा एक व्यक्ति मौजूद थे जिन्होंने उससे मारपीट की और जबरन उसके कपड़े उतार दिए और उसकी वीडियो बना ली। कथित आरोपियों ने सेवा सिंह को डराया और रेनू से बलात्कार करने का आरोप लगाने, मीडिया तथा पुलिस को बुलाने और वीडियो इंटरनैट पर डालने की धमकी देकर 5 लाख रुपए की मांग की। 

अंत में सौदा 30,000 रुपए में तय हुआ। आरोपियों के कहने के अनुसार सेवा सिंह ने अपने एक आढ़ती दोस्त जसवंत सिंह धमाई से यह कहकर रुपए मंगवाए कि उसका एक्सीडैंट हो गया है और 30,000 रुपए नुक्सान की भरपाई करनी है। रुपए लेकर आरोपियों ने सेवा सिंह को छोड़ दिया। सेवा सिंह ने नमोशी के चलते अपने परिवार में बात नहीं की। जब उसके दोस्त ने दूसरे दिन पूछा तो उसने पूरी कहानी बताई और फिर दोस्त व गांववासियों ने पुलिस से पहुंच की। पुलिस ने आरोपी दोनों सहेलियों को ठगी के 10,000 रुपए सहित गिरफ्तार किया। आरोपियों की पहचान रेनू बाला पुत्री शलविंदर सिंह, उसका भाई रोहित निवासी जैनपुर थाना बलाचौर, रेनू की सहेली मनीषा व उसका पति लक्की निवासी डघाम तथा मनीषा का पिता जगतार सिंह निवासी सूरापुर के रूप में हुई है। इन आरोपियों में जगतार सिंह, लक्की व रोहित फरार हैं। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: woman gave threat to arrest in fake rape case

Next Stories

image
free stats