image

लुधियाना: ‘बचपन विच्च ही मेरी मां मैनूं छड्ड के चली गई, पर हुण मैं मां तों बगैर नहीं रह सकदी, ऐस लई हुण मैं आपणी मां कोल चल्ली आं, पापा तुसीं मैनूं माफ कर देओ, ते दादा जी दा ख्याल रखयो।’ ये वे चंद लाइनें हैं, जो जमालपुर की न्यू सुंदर नगर, 33 फुटा रोड, मुंडियां की रहने वाली 23 वर्षीय गुरप्रीत कौर ने अपनी मौत से पहले सुसाइड नोट में लिखीं।

Read More  महासचिव बनने के बाद पहला रोड शो, भाई राहुल को घर पहुंची प्रियंका गांधी 

गुरप्रीत कौर की मां की मौत कई अर्से पहले हो गई थी। रविवार को गुरप्रीत कौर ने घर में चुनरी के सहारे फंदा लगाकर जान दे दी। सबसे पहले उसके पिता ने ही बेटी का शव पंखे से लटकते देखा। वहीं पर गुरप्रीत का लिखा हुआ सुसाइड नोट भी पड़ा मिला, जिसमें गुरप्रीत ने लिखा था कि वह बचपन से ही मां की कमी महसूस कर रही है। हालांकि उसके पिता ने कभी उसके कमी महसूस नहीं होने दी लेकिन ज्यों-ज्यों उसकी उम्र बढ़ती गई, उसे अपनी मां की कमी और खलनी शुरू हो गई। 

Read More  ईमानदार मुझ पर विश्वास करते हैं, भ्रष्टाचारियों को मुझसे दिक्कत है : मोदी 

गुरप्रीत ने लिखा है कि धीरे-धीरे अब वह मानसिक बीमार होती जा रही है। उसे लगता है कि वह जल्दी ही पागल हो जाएगी। उसने अपने पिता से सुसाइड नोट में कहा कि वह हमेशा तो उनके पास नहीं रह सकती। अगर, वह लड़का होती तो हमेशा उनके पास रहती और उनकी सेवा करती लेकिन अब उसे अपनी मां की कमी सबसे ज्यादा महसूस हो रही है, इसलिए वह अपनी मां के पास ही जा रही है। पुलिस ने इस मामले में गुरप्रीत कौर के पिता के बयानों पर धारा 174 के तहत कार्रवाई की है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: girl commit suicide in Ludhiana

More News From ludhiana

free stats