image

जालंधर: पंजाब में लोकसभा चुनाव से पहले शिरोमणि अकाली दल के पूर्व कैबिनेट मंत्री और सीनियर नेता सुरजीत सिंह रखड़ा ने दावा किया है कि उन्हें पूरा विश्वास है कि बरगाड़ी के बाद पार्टी छोड़ गए सभी अकाली नेता फिर से इकट्ठा होंगे। अकाली दल पंजाब की 13 में से 10 सीटों पर जीत हासिल करेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर 2 साल में बुरी तरह फेल साबित हुई है। न तो 4 हफ्ते में ड्रग्स को खत्म कर पाए, न ही सभी किसानों का कर्ज माफ हुआ। न ही पैंशन बढ़ी और न ही रेत के दाम ही कम हुए। ऐसे में लोग अपना गुस्सा कांग्रेस पर उतारने के लिए और नरेंद्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने के लिए मन बना चुके हैं। 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार के राज में बेअदबी नहीं रुक पाई है। कांग्रेस बेअदबी कांड में अकाली दल को दोषी ठहराने में लगी है। उन्होंने कहा हम कहते हैं कि बरगाड़ी कांड में जो भी दोषी हैं, उनको सजा जरूर मिलनी चाहिए। किसी एक भी दोषी को बख्शा न जाए तो क्यों कैप्टन सरकार दोषियों को सजा दिलाने में देरी कर रही है। बरगाड़ी में मोर्चे को कैप्टन सरकार ने ही उठवाया। एस.आई.टी. की जांच पर भी उन्होंने सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि जहां गलत बात होगी, वहां सवाल उठेंगे ही। सच्चई सामने आकर रहती है। एस.सी. के 200 यूनिट बिजली माफी के सवाल पर रखड़ा ने कहा कि 1997 में सीएम प्रकाश सिंह बादल ने ही लोगों से वादा किया था कि एस.सी. लोगों के 200 यूनिट बिजली माफ की जाएगी, तब कांग्रेस ने मजाक उड़ाया था। कहा था ऐसा हो नहीं सकता। बादल ने सरकार बनाने के तुरंत बाद इसे लागू कराया और इसके बाद कैप्टन सरकार ने भी कहा था इसे जारी रखेंगे, लेकिन अब लोगों को 2-3 हजार रुपए बिजली का बिल भरना पड़ रहा है। हमने एक पैसा नहीं लिया था।

वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल के खाली खजाने के मुद्दे पर रखड़ा ने कहा कि कौन-सी सरकार है जो खजाना भरकर दूसरी सरकार को देकर जाती है। कांग्रेस गई थी तब 2007 में मनप्रीत बादल ही वित्तमंत्री थे। कहा था खजाना खाली है, सभी सबसिडीज बंद करनी होंगी। अब फिर से 2017 में वित्त मंत्री बादल बने और वही सब अब कह रहे हैं। ये काम न करने की निशानी है।

रखड़ा ने कहा कि सबसे ज्यादा रिकॉर्ड तोड़ विकास 10 साल में अकाली सरकार ने ही किया। हमने उच्च शिक्षा को उत्साहित करने के लिए यू.जी.सी. से ग्रांट दिलाई। हर कालेज में कम-से-कम 1.5-1.5 करोड़ रुपए खर्च किए। मोहिंद्रा कालेज में ही 15 करोड़ रुपए खर्च किए गए, जहां अब 7 हजार बच्चे पढ़ रहे हैं। युवाओं को नौकरी देने के मामले में भी पंजाब सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि अभी तक सरकार रवनीत सिंह बिट्ट के भाई को ही सरकारी नौकरी दे पाई है। युवाओं को रोजगार मेले के नाम पर नौकरी देने का ढोंग रचा जा रहा है। युवा सैलरी देखकर नियुक्ति पत्र फाड़कर चले गए। पंजाब में अकाली दल की सरकार ने ही 2.5 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दी। इन नौकरियों में एक भी पैसे का लेन-देन नहीं हुआ, अगर कोई साबित कर दे तो वह राजनीति छोड़ देंगे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Surjit Singh rakhra statement on akali dal 

More News From punjab

Next Stories
image

free stats