image

जालंधर : पंजाब के पूर्व स्थानीय निकाय मंत्री मनोरंजन कालिया ने शुक्रवार को कहा कि पंजाब में कांग्रेस सरकार के शासन दौरान जालंधर नगर निगम कंगाली के कगार पर पहुंच गया है। निगम के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए भी पर्याप्त निधि नहीं है।कांग्रेस विधायक राजिंदर बेरी की ओर से लगाये गये आरोपों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए श्री कालिया ने कहा कि श्री बेरी उन पार्षदों के नाम बतायें जो भाजपा अकाली दल के शासन बड़ी मात्र में धनोपार्जन किया। उन्होंने कहा कि अगर आरोप तथ्यों से परे हुए तो श्री बेरी को मानहानि के मामले का  सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए। श्री कालिया ने कहा कि राज्य में अकाली दल-भाजपा गठबंधन सरकार के कार्यकाल में नगर निगम जालंधर को पैसे की कोई कमी नहीं आई। अकाली-भाजपा सरकार के आते ही  2007 में 100 करोड़ रुपये नगर निगम जालंधर को दिया गया। इसके इलावा 20 करोड़ रुपये की लागत से बीएमसी चौक का निर्माण किया गया। चालीस करोड़ रुपये की लागत से खालसा कॉलेज का फ्लाईओवर बना और 10 करोड़ रुपये सेंट्रल वर्ज के लिए दिये गए। उन्होंने कहा कि सीवेरज और वाटर सप्लाई पर दो हजार करोड़ रुपये खर्च किये गये। पूर्व मंत्री ने कहा कि राज्य में कांग्रेस के कार्यकाल में नगर निगम द्वारा यूजर्स चार्ज लगाए जा रहे है जो अकाली-भाजपा कार्यकाल में कभी नहीं लगाये गये थे। उन्होंने कहा कि अब नगर निगम के कर्मचारियों को अपने वेतन के लिए पैसे जुटाने के लाले पड़े हुए है। नगर निगम कर्मचारियों को अपना वेतन लेने के लिए धरने लगाने पड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि सड़कें टूटी हुई हैं और शहर में जगह-जगह कूड़े के अंबार लगे हुए हैं। शहर की हज़ारों स्ट्रीट लाइट्स बंद पड़ी है। 
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Municipal Corporation on the brink of Congress under Congress rule: Kalia

More News From jalandhar

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats