image

फरीदकोट: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बहबल कलां और कोटकपूरा में शांतिपूर्ण प्रदर्शन के दौरान पुलिस गोली से मारे गए या घायल होने वालों की याद में बरगाड़ी या उसके नजदीक एक स्मारक बनाने का ऐलान किया है। पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल द्वारा बरगाड़ी और बेअदबी के अन्य मामलों को अतीत की बात होने के दावों की खिल्ली उड़ाते हुए कैप्टन अमरेन्द्र ने कहा कि लोग धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी को न तो भूले हैं और न ही कभी भूलेंगे। अकाली दल के सरपरस्त को यह सुझाव देने के लिए शर्मसार होना चाहिए। मुख्यमंत्री गांव बरगाड़ी के स्टेडियम में फरीदकोट लोकसभा हलके से कांग्रेसी उम्मीदवार मोहम्मद सद्दीक के हक में रैली को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर कांग्रेस पार्टी के प्रधान राहुल गांधी ने भी रैली को संबोधित किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिख भाईचारा पिछले 500 सालों के दौरान अपने किसी भी सदस्य के बलिदान को नहीं भूला और वह इसको भी नहीं भूल सकते। बादल 93 साल की उम्र होने के बावजूद इस सच्चाई को नहीं जान सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि बादलों के राज में घटी घटनाओं को कोई किस तरह भूल सकते हैं। एक या दो नहीं बल्कि 58 गुरु ग्रंथ साहिबान की बेअदबी हुई है। इसके अलावा अनेकों गुटका साहिब, भगवत गीता, बाइबल और कुरान की बेअदबी की घटनाएं हुईं। कैप्टन अमरेन्द्र ने कहा कि बादलों के नाक के नीचे बेअदबी के विरुद्ध शांतिपूर्ण विरोध के दौरान पुलिस गोलीबारी की घटनाओं और उन महीनों के दौरान बरगाड़ी में जो भी कुछ घटा, उसे पंजाब कभी नहीं भूल सकता। बादलों की जानकारी के बिना गोलीबारी हो ही नहीं सकती थी। 

मुख्यमंत्री ने उस समय को याद करते हुए कहा कि प्रभावित हुए लोगों ने उनको बताया था कि कैसे पुलिस का एस.पी. एकदम आया और गोली चलाने के हुक्म दिए और पुलिस ने भाग रहे लोगों पर गोली चलाई। ऐसी घटनाओं से निपटने के लिए यह कोई ढंग नहीं है और यदि गोली चलाने की जरूरत पैदा हुई थी तो यह एक मैजिस्ट्रेट की हाजिरी में पुलिस की छोटी टुकड़ी द्वारा ऐसा किया जाना था क्योंकि मैजिस्ट्रेट स्थिति का पता लगाता और गड़बड़ के अंदेशे के संदर्भ में एक व्यक्ति पर एक गोली चलाने के हुक्म देता।

उन्होंने कहा कि बादल और अन्य अकाली नेता यह भली-भांति जानते हैं कि क्या गलत घटा और लोग न तो इसको भूले हैं और न ही उन्होंने इसके लिए अकालियों को माफ किया है। यही कारण है कि वोटों के लिए बौखलाए हुए अकाली इधर-उधर भाग रहे हैं। यादगार बनाने के लिए स्थानीय निवासियों की एक कमेटी बनाई जाएगी जो यह फैसला लेगी कि वे कैसी यादगार बनाना चाहते हैं। इस मौके पर उनके साथ कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सोढी, कैबिनेट मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगड़, विधायक कुशलदीप ढिल्लों, मोगा के विधायक हरजोत कमल, धर्मकोट के विधायक काका लोहगढ़ आदि हाजिर थे।  

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: CM Capt Amarinder Singh statement on bargari kand

More News From punjab

Next Stories
image

free stats