image

मोबाइल गेमज जिसे हम खाली समय में मन बहलाने के लिए खेलते है लेकिन यह गमेज किसी के डिपरेशन का बड़ा कारण बन सकती है अगर आप भी मोबाइल गेम लवर हैं तो यह ख़बर आपके लिए भी ज़रूरी है। शायद ही कोई बच्चा हो जिसे पबजी खेलना पसंद ना हो ओर शायद ही कोई युवा हो जिसे पब जी का रामांस ना हो। हालात यह है की इन मोबाइल गेम ने ग्राउंड व स्टेडियम से बच्चों को गायब कर दिया है ओर बच्चे अब सिर्फ़ इन मोबाइल गेम्ज़ में बुरी तरह फंस चुके है बल्कि यह गेम्ज़ पंजाब में फैले नशे की तरह ही युवाओं को मानसिक तोर पर नशेड़ी बना रही है।

दरअसल, सुल्तानपुर लोधी के रहने वाले रोहित पिछले कुछ समय से मोबाइल पर पबजी खेला करता था। पबजी में अनुभव के साथ साथ रोमांच बढ़ने से उसने गेम्ज़ का समय भी बढ़ा दिया और रात 12 बजे तक पब जी ही खेला करता। हालत एसी हो गई के उसे लगने लगा के वह ख़ुद पबजी का किरदार है। गेम की तरह घर में रोहित वैसी ही हरकतें करने लगा यानी पबजी का हीरो बन गया और घुसपैठियों को मारने के लिए कभी बेड के नीचे उनको ढूँढता तो कभी कहीं ओर, रोहित पबजी में इस कदर डूब हो गया के रात खेलते समय सिर दर्द होने पर वह दर्द की दवा लेकर फिर पबजी खेलने लग जाता। 

रोहित के परिवार के मुताबिक़ रोहित पर हुए दिमागी असर के चलते उसे कुछ दिन पहले भी एक निजी अस्पताल इलाज के लिए दाख़िल करवाया गया था लेकिन तब डाक्टर को बीमारी की समझ ना आने के चलते उसे डिस्चार्ज कर दिया गया लेकिन जब पबजी के चलते वह ओर डिप्रेशन में चला गया तो उसे सिविल अस्पताल सुल्तानपुर लोधी दाख़िल करवाया गया यहाँ से उसे कपूरथला रेफ़र कर दिया गया। वही रोहित का इलाज कर रहे डाक्टर के मुताबिक़ उसकी हालत पहले से ठीक है लेकिन इस गेम का प्रभाव उसके दिमाग पर काफी जायदा पड़ा है।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Man got mentally disturbed with Pubg

More News From punjab

Next Stories
image

free stats