image

चंडीगढ़: पंजाब एकता पार्टी के अध्यक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने आज आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी से विधायकों को तोड़कर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने ‘मित्र‘ सुखबीर सिंह बादल के पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता बनने का रास्ता साफ कर रहे हैं। उन्होंने यहां जारी बयान में आरोप लगाया कि ऐसा  कर मुख्यमंत्री बादल परिवार से अपनी ‘नज़दीकियों‘ की पुष्टि कर रहे हैं।   

खैहरा ने कहा कि आखिरकार कैप्टन और बादल की ‘दोस्ती‘ की सच्चाई बाहर आ रही है। कल ही रुपनगर से आप विधायक अमरजीत सिंह संदोआ कांग्रेस में शामिल हुए थे। खैहरा ने आरोप लगाया कि इस पार्टी के विधायक तोड़ने के पीछे कैप्टन की असली मंशा है कि आप के विधायकों की संख्या शिरोमणि अकाली दल के विधायकों से कम हो जाए और बादल को विधानसभा में विपक्षी नेता का दर्जा दिया जा सके।   

खैहरा खुद आप से इस्तीफा दे चुके हैं और अपनी पार्टी बना चुके हैं। इस समय आप विधायकों की संख्या इस समय 15 है। पार्टी से एचएस फूल्का, मास्टर बलदेव सिंह इस्तीफा दे चुके हैं जबकि नाजर सिंह और अमरजीत सिंह कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। शिअद-भारतीय जनता पार्टी के विधायकों  की संख्या  17 है।   

खैहरा ने आरोप लगाया कि श्री बादल अब भी विपक्ष के नेता के पद पर दावा ठोंक सकते हैं पर मुख्यमंत्री नहीं चाहते कि  बादल की भाजपा पर निर्भरता बनी रहे इसलिए वह आप से दो और विधायक तोड़ेंगे। पंजाब एकता पार्टी नेता ने आरोप लगाया कि कैप्टन और बादल व परिवार के बीच संबंधों के कारण ही कांग्रेस सरकार ने चाहे भ्रष्टाचार के आरोपों का मुद्दा हो या नशे के आरोपों का अकाली नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। यहां तक धार्मिक बेअदबी मामले में भी उन्होंने बादलों को बच निकलने का सुरक्षित रास्ता दे दिया है।  

आप को लेकर खैहरा ने कहा कि आप सिर्फ क्रांतिकारी पार्टी होने का शोर मचाती है पर बिक्रम मजीठिया से अरविंद केजरीवाल के माफी मांगने व कांग्रेस के समक्ष गठबंधन के लिए मिन्नतें करने की घटना से साबित हो चुका है कि यह लोग फर्जी क्रांतिकारी हैं। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: sukhpal singh khaira statement on CM amrinder singh 

More News From punjab

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats