image

चंडीगढ़ः अंतरराष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) के कुलभूषण जाधव मामले में निर्णय को लेकर वरिष्ठ वकील नवकिरण सिंह का मानना है कि निर्णय में खुश होने जैसा कुछ नहीं है। लॉयर्स फॉर ह्यूमन राइटस इंटरनेशनल (एलएचआरआई)  के महासचिव और वरिष्ठ वकील नवकिरण सिंह ने आज ट्वीट किया है कि निर्णय में खुश होने जैसा कुछ नहीं है। उन्होंने लिखा है कि अदालत ने जाधव का सैन्य मुकदमा दरकिनार नहीं किया है जिससे मामले में प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों की अनदेखी हुई है। उनके अनुसार कुलभूषण की तकदीर का फैसला एक राजनीतिक निर्णय बन गया है।

Read More  पंजाब पुलिस में बड़ा फेरबदल, 24 IPS और 5 PPS अधिकारियों के तबादले

उन्होंने बाद में यूनीवार्ता के सवाल के जवाब में कहा कि यह कोई जीत नहीं है। आईसीजे ने कहा है कि मामले को दोबारा सुनें और श्री जाधव को काउंसेलर एक्सेज मिले। उन्होंने कहा कि अच्छा होता यदि मामला सैन्य अदालत के बजाय सामान्य अदालत में चलाने का आदेश होता। उन्होंने कहा कि सैन्य अदालत में मुकदमे में बचाव वकील नहीं दिया जाता है।

Read More  आ गई तारीख, इस दिन होगा चंद्रयान-2 लांच

सिंह ने मुंबई पर 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकी मामले का उदाहरण दिया जिसमें पकड़े गये आतंकी अजमल कसाब को वकील दिया गया और पूरा मौका दिया गया कि साबित कर सके कि वह बेकसूर है। उन्होंने स्पष्ट किया कि उनकी संस्था मौत की सजा के खिलाफ है।उन्होंने कहा कि श्री जाधव फांसी से तो बच जाएंगे पर दोनों देशों के बीच राजनीतिक मोहरा बन जाएंगे और संभवत: कभी रिहा नहीं हो पाएंगे। अंतरराष्ट्रीय अदालत ने बुधवार को पाकिस्तान में कैद भारतीय नागरिक जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगाते हुए सजा पर पुनर्विचार और प्रभावी समीक्षा का निर्देश दिया है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Nothing like being happy with ICJ decision on Kulbhushan Jadhav

More News From national

Next Stories
image

free stats