image

चंडीगढ़: कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य प्रताप सिंह बाजवा ने गुरदासपुर लोकसभा हलके से अपनी दावेदारी जताई है। टिकट की लॉबिंग के लिए नई दिल्ली में जमे बाजवा ने आज मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से भी मुलाकात की है। इससे पहले बाजवा ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए गुरदासपुर सीट छोड़ने का प्रस्ताव भी दिया था। उनकी कहना है कि गुरदासपुर सीट का फैसला राहुल गांधी पर छोड़ देना चाहिए।

गुरदासपर लोकसभा सीट पर मौजूदा सांसद सुनील जाखड़ के विरोध की खबरें आती रहती हैं लेकिन ठीक चुनाव से पहले प्रताप सिंह बाजवा ने इस सीट से दावेदारी जता कर सियासत गर्म कर दी है। आज एक तरफ जहां स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक चल रही थी, वहीं बाजवा टिकट की लॉबिंग में जुटे थे। सूत्रों के मुताबिक बाजवा ने आज मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह से भी मुलाकात की है। 

मुलाकात के बाद बाजवा ने बड़ा बयान दिया कि गुरदासपुर सीट का फैसला कांग्रेस प्रधान राहुल गांधी पर छोड़ देना चाहिए। उन्होंने यहां तक कहा कि अगर राहुल गांधी कहें तो वह गुरदासपुर छोड़ कर वह अंडमान-निकोबार से चुनाव लड़ने को तैयार हैं। इससे पहले गुरदासपुर में जाखड़ का विरोध देख मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने गत दिनों स्पष्ट चेतावनी दी थी कि पार्टी के आधिकारिक उम्मीदवार की खिलाफत करने वालों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। बाजवा ने इससे पहले कहा था, वह चाहते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह गुरदासपुर से चुनाव लड़ें तो वह इस सीट से दावा छोड़ने को तैयार हैं। 

उधर, बठिंडा लोकसभा हलके से अपने बेटे मोहित मोहिंद्रा को मैदान में उतारने के लिए पंजाब के सेहत मंत्र ब्रह्म मोहिंद्रा नई दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। पार्टी सूत्रों के मुताबिक आज उन्होंने कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं के साथ मुलाकात कर अपने बेटे को टिकट दिलाने के लिए अपना दावा पेश किया। माना जा रहा है कि ब्रrा मोहिंद्रा की कोशिश है कि अगर पार्टी बठिंडा से मनप्रीत बादल को मैदान में नहीं उतारती तो उनके बेटे को मौका दिया जाए।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Lok Sabha Election 2019

free stats