image

चंडीगढ़: राज्य में बाढ़ की स्थिति अब तक नियंत्रण में है, परन्तु बारिश के फिर शुरू होने के मद्देनजऱ डिप्टी कमिशनरों को चौकस रहने के निर्देश दिए गए हैं। सतलुज दरिया में पानी का स्तर घट रहा है। इसके हरीके हैड में मौजूदा स्तर 82532 क्यूसिक है जो शाम तक और घटने की उम्मीद है। 

प्रवक्ता ने कहा कि भोलेवाल में 170 फुट चौड़े और 45 फुट गहरी दरार को भरने का काम मुकम्मल कर लिया गया है। मत्तेवाड़ा क्षेत्र में भी छोटी दरार को समय पर दबा दिया गया। इसके साथ ही मायो साहिब में पड़ी दरार को भी भर दिया गया और मियोंवाल में 320 फुट में 180 फुट दरार को भरने का काम कर लिया गया है। इसके अलावा जनीयां चाहल गाँव में 500 फुट चौड़ी दरार को भरने का काम सेना द्वारा शुरू किया गया है। 

प्रवक्ता ने कहा कि कपूरथला में टिब्बी में किनारे बहने की समस्या पर काबू पा लिया गया है और इस तरह स्थिति नियंत्रण अधीन है। आहली कलाँ धुस्सी बांध में तुरंत मुरम्मत कामों और रेत की बोरियाँ लगा दरारें भरके स्थिति को काबू कर लिया गया है।  फिऱोज़पुर में बचाव कार्य जारी हैं और प्रभावित लोगों को सहायता दी जा रही है। बचाव टीमों के साथ अधिक से अधिक 500 लोग जुड़े हुए हैं। प्रभावित गाँवों में दवाएँ और फूड पैकेट बाँटे जा रहे हैं। 20 राहत केंद्र दिन-रात काम कर रहे हैं और हरेक गाँव में 16 मैडीकल टीमें और मोबाइल बोट इकाईयां काम कर रही हैं। 

लुधियाना में भी स्थिति नियंत्रण अधिन है। बाढ़ों से प्रभावित गाँवों में सभी पशुओं का टीकाकरण किया जा चुका है। पशु पालन विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक 13 गाएँ और भैंसें बाढ़ों के कारण मर चुकी हैं। अब तक 2000 से ज़्यादा पशुओं का टीकाकरण किया गया है। जालंधर में हवाई सेवा के ज़रिये अब तक 36000 फूड पैकेट पहुँचाए गए हैं और राहत कैंपों में तकरीबन 2000 लोग सुरक्षित हैं। 14 कैंपों का प्रबंध सेहत विभाग और 18 कैंप पशु पालन विभाग द्वारा लगाए गए हैं। लगभग 32000 लोग बाढ़ों से प्रभावित हुए हैं और 100 गाँवों में फ़सल आधी या पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई है, जोकि तकरीबन 55000 एकड़ बनती है। लगभग 18000 लोग लोहियाँ में फंसे हुए हैं और क्योंकि पानी घट रहा है इसलिए किश्तियां नहीं चल सकती परन्तु लोगों की सहायता के लिए जिला प्रशासन ट्रैक्टर ट्रालियों का सहारा ले रहे हैं। 

कपूरथला में 87 गाँव प्रभावित हुए हैं और 20 गाँव जमीन से कट-ऑफ हो गए हैं जिनमें 1777 परिवारों के 9578 व्यक्ति मौजूद हैं। इन गाँवों में 4800 फूड पैकेट हवाई सेवा के द्वारा पहुँचाये गए हैं। 1930 यूनिटों समेत 800 किलो दूध पाउडर भी बाँटे गए हैं। हरेक राशन यूनिट 3 दिनों के लिए काफ़ी है। अब तक 325 व्यक्तियों को यहाँ से बाहर निकाला गया है। बचाव और राहत कामों में तेज़ी लाने के लिए 233 बचाव कर्मचारी और 14 किश्तियों काम में लगाई गई हैं।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Instructions to the deputy commissioners to be vigilant after the resumption of rain, water level decreased and cracks filled

More News From chandigarh

Next Stories
image

Auto Expo Amritsar 2019
Auto Expo Amritsar 2019
free stats