image

चंडीगढ़ : अब कांग्रेस पार्टी राज्यसभा के मौजूदा मैंबर, मौजूदा विधायक और इनके रिश्तेदारों को लोकसभा के लिए कोई टिकट नहीं देगी। यह नीति पार्टी लोकसभा के मैंबरों के रिश्तेदारों के लिए भी अपनाएगी। यह फैसला पार्टी ने शनिवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में सैद्धांतिक तौर पर लिया। इसमें सभी राज्यों के कांग्रेस पार्टी के प्रधानों के अलावा मुख्यमंत्री भी शामिल थे। अगर कोई प्रदेश कांग्रेस कमेटी किसी विधायक, राज्यसभा और लोकसभा के नजदीकी रिश्तेदार का नाम टिकट के लिए चयनित करती है तो इसका फैसला कांग्रेस की आल इंडिया कमेटी के स्तर पर होगा। बैठक में सबसे खास फैसला लिया गया कि जो कांग्रेस के इस समय राज्यसभा मैंबर हैं और राज्य की विधानसभाओं में विधायक हैं, उन्हें भी इस बार लोकसभा में टिकट नहीं दिया जाएगा।

गौरतलब है कि पंजाब में इस बार लगभग 7 विधायकों के अलावा बड़े नेताओं ने अपने पारिवारिक सदस्यों खासकर अपने बेटों के लिए टिकट की मांग की है। कांग्रेस को यकीन है कि उसकी पंजाब में लोकसभा चुनाव में पकड़ मजबूत है। पंजाब के मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने अपने बेटे मोहित मोहिंद्रा के लिए बठिंडा लोकसभा के लिए दावेदारी पेश की है। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री राजिंद्र कौर भट्ठल ने अपने लिए संगरूर और अपने दामाद के लिए आनंदपुर साहिब से टिकट की मांग की है। 

कांग्रेस की एक ओर विधायक सुरजीत सिंह धीमान ने भी अपने बेटे जसविंद्र धीमान के लिए टिकट का दावा पेश किया है। वह लुधियाना व संगरूर से टिकट की मांग कर रहे हैं। अंबिका सोनी ने अपने बेटे के लिए आनंदपुर साहिब से टिकट मांगी है जबकि जगमोहन कंग ने भी आनंदपुर साहिब पर अपने बेटे के लिए दावेदारी पेश की है। रणदीप सिंह नाभा जो इस समय पार्टी के विधायक हैं, उन्होंने पटियाला से लोकसभा सीट लड़ने की इच्छा प्रकट की है और गुरदासपुर से जाखड़ के अलावा अमरदीप सिंह चीमा ने भी दावेदारी पेश की है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: congress rajya sabha mps and mlas will not get tickets for lok sabha

More News From punjab

Next Stories
image

free stats