image

चंडीगढ़: पंजाब विधानसभा के बजट सत्र के दौरान अकाली-भाजपा सदस्यों ने दलितों की फ्री बिजली सुविधा से छेड़छाड़ किए जाने को लेकर सदन से वाकआऊट किया। गठबंधन के सदस्य काला चोला पहन कर आए थे जिसमें बिजली बिल की लड़ियां चिपकी हुई थीं। शून्यकाल के दौरान पवन कुमार टीनू ने दलितों की फ्री बिजली सुविधा को लेकर सरकार की मंशा पर सवाल उठाया। स्पीकर राणा के.पी. सिंह ने इसकी इजाजत नहीं दी क्योंकि इससे पहले अकाली दल के शरणजीत सिंह ढिल्लों यह मामला उठा चुके थे। इजाजत न मिलने पर अकाली-भाजपा सदस्य नारेबाजी करते हुए वेल में पहुंच गए और कुछ देर बाद वाकआऊट कर गए। 

रंधावा ने लक्ष्मण सिंह धरोवाली को शहीद का दर्जा देने के लिए पेश किया प्रस्ताव : कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने आधिकारिक प्रस्ताव पेश करते हुए लक्ष्मण सिंह धरोवाली को शहीद के रूप में घोषित किए जाने की मांग की। रंधावा ने कहा कि लक्ष्मण सिंह ने श्री ननकाना साहिब का प्रबंध महंतों के कब्जे से छुड़ाया। नेता प्रतिपक्ष हरपाल चीमा सहित विपक्ष ने प्रस्ताव का समर्थन किया। 

पिछले 2 सालों में धोखेबाज ट्रैवल एजैंटों के खिलाफ 2140 मामले दर्ज : सरकार ने पिछले 2 सालों में धोखेबाज ट्रैवल एजैंटों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 2140 मामले दर्ज किए हैं। मुख्यमंत्री की ओर से संसदीय मंत्री ब्रrा मो¨हद्रा ने आप के सदस्य कंवर संधू के ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मार्च 2017 में सत्ता संभाली थी। तब से अब तक नौजवानों को धोखा देकर ठगने वाले ट्रैवल एजैंटों के खिलाफ कार्रवाई की है। उन्होंने बताया कि 2140 मामलों में से 1107 मामले भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत तथा पंजाब ट्रैवल प्रोफेशनल्स रैगुलेशन एक्ट 2014 के 528 धारा के तहत और इमीग्रेशन एक्ट 1983 की धारा 505 के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। 

सरकार राजस्व लक्ष्य पाने में नाकाम : पंजाब के राजस्व मंत्री सुखबिंदर सिंह सुख सरकारिया ने सदन में स्वीकार किया कि स्टांप ड्यूटी व रजिस्ट्रेशन चाíजस की मद में 2500 करोड़ रुपए का राजस्व जुटाने का लक्ष्य था लेकिन जनवरी 19 तक 1891 करोड़ रुपए प्राप्त हुए हैं। उन्होंने बताया कि 3 फीसदी सोशल सिक्योरिटी फंड लिया जाता था जो फिलहाल बंद है और 1 अप्रैल 2019 से यह सैस फिर शुरू होगा। सरकारिया पूर्व वित्तमंत्री परमिंदर ढींडसा के सवाल का जवाब दे रहे थे।

समय पर सदन नहीं पहुंचते लापरवाह विधायक : हलके के मसले रखने के लिए विधायकों की लापरवाही आज सदन में देखने को मिली। सदन शुरू होने पर सदन में 117 में से सिर्फ 22 विधायक थे। 78 सदस्यों वाली कांग्रेस के सिर्फ 15 जबकि आप के 20 में से 5 और अकाली-भाजपा गठबधन का कोई सदस्य मौजूद नहीं था। आज 9 विधायकों की गैरमौजूदगी के चलते उनके  सवालों के जवाब नहीं दिए जा सके।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Akali-BJP made Wakouts on the issue of free power of Dalits

More News From punjab

free stats