image

अमृतसर : भाजपा हाईकमान ने स्थानीय नेताओं को दरकिनार कर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी को अमृतसर से उम्मीदवार बनाने पर कांग्रेसी उम्मीदवार गुरजीत सिंह औजला ने कहा कि बेशक पुरी पैराशूट के जरिए अमृतसर आए हैं, लेकिन एक अतिथि के तौर पर उनका गुरु नगरी में स्वागत है। 19 मई तक अमृतसर में रहते हुए पुरी अमृतसर की सुप्रसिद्ध मेहमानवाजी का आनंद जरुर लें। लोग उनका पूरा स्वागत कर मान-सम्मान भी करेंगे, लेकिन लोकतांत्रिक प्रक्रिया में लोग उनका साथ नहीं देंगे और उनको निराशा ही हाथ लगेगी। 

औजला ने कहा कि पुरी को उम्मीदवनार बनाने से स्पष्ट हो गया कि भाजपा हाईकमान की नजर में अमृतसर का कोई भी नेता चुनाव के लिए सक्षम नहीं है। अमृतसर बाहरी लोगों की मेहमानवाजी के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। यही वजह है कि गुरु नगरी के लोग मतदान से एक दिन पहले तक उनकी खातिर करेंगे, लेकिन 19 मई के दिन कांग्रेस के पक्ष में मतदान करके उनको निराश कर बैंरग वापस भेजने में भी देर नहीं लगाएंगे।

अमृतसर सीट से औजला तीसरे व पुरी चौथे सिख उम्मीदवार
अमृतसर लोकसभा सीट की बात करे तो गुरजीत सिंह औजला कांग्रेस के तीसरे सिख उम्मीदवार हैं, वहीं हरदीप सिंह पुरी भाजपा के चौथे सिख उम्मीदवार हैं। इससे पहले कांग्रेस की टिकट पर गुरमुख सिंह मुसाफिर 1952, 1957 और 1967 में सांसद चुने गए, वहीं 2104 में कैप्टन अमरेंद्र सिंह अमृतसर से सांसद बने। 2017 के चुनाव में गुरजीत सिंह औजला भी कांग्रेस की टिकट पर चुनाव जीत संसद भवन पहुंचे। औजला एक बार फिर मैदान में हैं।

दूसरी ओर 1998 में भाजपा की टिकट पर दया सिंह सोढी पहली बार सांसद बने। उन्होंने 1999 में भी चुनाव लड़ा, लेकिन वह हार गए। उसके बाद भाजपा ने सन 2004, 2007 तथा 2009 में नवजोत सिंह सिद्धू को उम्मीदवार बनाया था। सिद्धू तीनों चुनाव जीत भाजपा के सांसद रहे। 2107 के उपचुनाव में भी राजिंदर मोहन सिंह छीना को मैदान में उतारा था, लेकिन वह कांग्रेस के गुरजीत सिंह औजला से करीब 2 लाख मतों के अंतर से हार गए थे। अब एक बार फिर भाजपा ने हरदीप सिंह पुरी को मैदान में उतारा है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Gurjeet Singh Aujla statement on Hardeep Singh Puri

More News From punjab

Next Stories
image

free stats