image

आजकल के शिक्षित समाज से पुरुष और महिला को बराबर का दर्जा दिया जाता है। दोनो एक सात हर क्षेत्र में काम कर रहे है। 21 वी शताब्दी में महिलाएं पुुरुषो के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर चल रही है। महिलाओं ने अपने हुनर का परचम लहराते हुए अपनी काबिलियत का प्रदर्शन किया है। आज भी देश के ऐसे कुछ हिस्सों में शिक्षा के आभाव में महिलाओं को नर्क से बदतर जिंदगी जीने पर विवश है।

आज के समय में लड़का-लड़की को एक समान नजरो से देखा जाता है। हर किसी को एक समान अधिकार मिलता है, लेकिन कुछ जगहें आज भी ऐसी हैं जहां पर महिलाएं आज भी महज पुरुषों के उपयोग की चीज बन कर अपना जीवन यापन कर रही है।

जूतों से मारते है, फिर पीलाते है पानी-
यह अंधविश्वास है राजस्थान के लोगो में जहा महिलाएं अपने पति के साथ देवी के मंदिर जाएंगी और अपने पति के पैरो में पहने हुए जूते को उतरवाकर उन जूतों में पानी पीयेंगी, अंधविश्वास की कड़ी यही खत्म नहीं होती बल्कि महिलाएं को इससे भी बुरे दौर से गुजरना पड़ता है।

मुंह में जूता पकड़कर गांव में है घुमाते-
राजस्थान में माता के मंदिर में भूत उतारने का प्रचलन है, कहा जाता है कि महिलाओं के ऊपर से भूत का साया इस मंदिर में उतारा जाता है। पति के जूते से पानी पीने के बाद पूजा पाठ कराने वाले तांत्रिक महिलाओं को उन्ही जूतों से मारते भी है, बाद में उन जूतों को मुंह में रख कर पूरे गांव का चक्कर लगाना पड़ता है।

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: woman drinking water in her husbands shoes

free stats