image

भारत मेंनेट न्यूट्रैलिटी की कैंपेन तब से चल रही थी जब से फेसबुक इंटरनेट ओआरजी लकेर आने की तैयारी में था जिसके तहत किसी खास सर्विस के लिए फ्री इंटरनेट देने का प्रावधान था लेकिन भारत में इस बात का जमकर विरोध हुआ और फेसबुक को अपने कदम पीछे खींचने पड़ गए थे। लेकिन अब डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम ने नेट न्यूट्रैलिटी के नियमों के स्वीकृति दे दी है। अब कोई भी टेलीकॉम प्रोवाइडर इंटरनेट ब्लॉकिंग, किसी खास वेबसाइट के लिए नेट स्पीड कम या ज्यादा करना या फिर जीरो रेटिंग इंटरनेट डेटा नहीं कर सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक इस नए नियम में साफ तौर पर लिखा है कि इंटरनेट को लेकर डेटा के साथ किसी भी तरह का भेदभाव नहीं हो सकता है।

इसमें ब्लॉकिंग, स्पीड कम करना या किसी खास कॉन्टेंट के लिए ज्यादा स्पीड देने को बैन किया गया है। हालांकि इससे इंटरनेट ऑफ थिंग्स IOT  सर्विस को और खास सर्विसों को अलग रखा गया है। इसमें ऑटोनोमस व्हीकल और सर्जरी ऑपरेशन्स शामिल हैं। दी वायर की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि TRAI के हेड आर.एस. शर्मा ने इसे एंबुलेंस से कंपेयर किया है और कहा कि एंबुलेंस आधाकिरिक तौर पर ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन कर सकती है ताकि सर्विस क्वॉलिटी बरकरार रहे।

इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स को अब डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम के साथ करार करते वक्त इन शर्तों को मानना होगा और लाइसेंस अग्रीमेंट के समय भी इस पर साइन करना होगा। रिपोर्ट के मुताबिक अगर कोई भी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर इस नियम का उल्लंघन करता है तो उसका लाइसेंस कैंसिल किया जा सकता है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: trai recommendation on net neutrality is accepted by department of telecom

Advertisement
Advertisement
Advertisement
free stats