image

आयुर्वेद में आहार का मतलब है जो भी खाया जाए, वह 6 स्वादों मीठा, खट्टा, नमकीन, कसैला, कड़वा या तीखा में से किसी एक तरह का हो. आहार सही होने से शरीर में शुद्धता बढ़ती है, शरीर टॉक्सिन्स से मुक्त होता है और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. अगर आप ये सभी चीजें हासिल करना चाहते हैं, तो अपनाएं कुछ आयुर्वेदिक सुपरफूड.

अदरक में जलन कम करने, भूख बढ़ाने, आंतों का दर्द कम करने, गैस आदि से बचाव के गुण पाए जाते हैं। ताजी अदरक से उल्टी में आराम मिलता है, विशेष रूप से गर्भावस्था में बार-बार उल्टी आने की स्थिति में अदरक का सेवन लाभदायक है. सूखी हुई अदरक जोड़ों के दर्द और माइग्रेन के दर्द में आराम देती है. कोलेस्ट्रॉल का स्तर नियंत्रित रखने में भी यह मददगार है.

अश्वगंधा की जड़ आयुर्वेद में अश्वगंधा का प्रयोग तनाव दूर करने, थकान और चिंता दूर करने के लिए किया जाता है. सूजन या रूमेटाइड आथ्र्राइटिस के दर्द में भी इसके इस्तेमाल से आराम मिलता है. पारंपरिक रूप से दर्द वाले हिस्से में पत्तियों का अर्क लगा दिया जाता है.

अगर आंवले की बात करे तो आंवला में ये तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं.यह विटामिन सी, कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत है, पाचन क्रिया में सहायक है, मलाशय साफ रखता है आंवले के तेल के इस्तेमाल से बालों में रूसी की समस्या में भी आराम मिलता है.

घी जो लोग सब्जी-चावल आदि पर घी डालकर खाते हैं, उन्हें यह जानकर खुशी होती है कि घी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। घी ओमेगा थ्री फैटी एसिड्स जैसे तत्वों के कारण कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम रखने में सहायक है। आंखों और त्वचा को स्वस्थ बनाता है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: These superfood will keep your health fit, in your diet

More News From eknazar

free stats