image

श्रीनगरः जम्मू कश्मीर के दो पुलिस कर्मियों की ईमानदारी की कहानियां इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं जिन्होंने खो गये नकदी से भरे बैग को उसके सही मालिकों तक पहुंचाया। 

महज छह हजार रुपये मासिक पर काम करने वाले विशेष पुलिस अधिकारी उमर मुश्ताक ने कल एक बैग उसके मालिक तक पहुंचाया। इस बैग में 90 हजार रुपये थे। कश्मीर जोन पुलिस ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘यहां ईमानदारी एक संगठनात्मक मूल्य के रुप में अंतर्निहित है। कमरवाड़ी में तैनात एसपीओ उमर मुश्ताक ने 90,000 रुपये से भरा एक बैग आज उसके सही मालिक पलपोरा नूरबागी के अब्दुल अजीज मल्ला को सौंपा।’’

मल्ला हाल ही में श्रीनगर नगर निगम से सेवानिवृत्त हुये हैं। नकदी से भरा उनका बैग खो गया था जिसमें उनकी रिटायरमेंट की बचत थी। उन्होंने इसकी रिपोर्ट संबंधित थाना में दर्ज करायी थी। पुलिस विभाग से जुड़ा इसी तरह का एक और मामला सामने आया है। एक कांस्टेबल फारुक अहमद ने कीमती सामानों और 21,000 रुपया नकदी से भरा एक बैग अमरनाथ तीर्थयात्री वेंकटेश्वर राव को सौंपा।

पुलिस के ट्वीट के अनुसार तमिलनाडु के गुंटुर के निवासी राव का बैग अमरनाथ यात्रा से लौटते वक्त मणिगाम आधार शिविर में खो गया था। अहमद मणिगाम में कार्यरत हैं।
 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: the stories of loyalty of police are viral on internet

Advertisement
free stats