image

चंडीगढ: आम आदमी पार्टी से सस्पैंड किए गए विधायक सुखपाल खैहरा और कंवर संधू ने कहा कि उनका सस्पेंशन पूरी तरह पार्टी संविधान के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि न तो कोई नोटिस भेजा गया न उनका पक्ष सुना गया एकतरफा डिक्टेरशिप लागू कर उन्हें सस्पैंड किया गया। खैहरा ने क हा कि 22 सदस्यों वाली कोर कमेटी अवैध है और कमेटी को सस्पैंड करने का फैसला लिया गया है क्योंकि पार्टी संविधान में कोर क मेटी का प्रावधान ही नहीं है। विधायक जयकिशन रोड़ी ने दावा किया कि केजरीवाल गुट के तीन विधायक उनके संपर्क में हैं और दिवाली के बाद वह पार्टी को बढ़ा झटका देने जा रहे हैं।

खैहरा ने कहा कि पार्टी की पीएसी ने केजरीवाल की इस सस्पेंशन कार्रवाई को लेकर तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है। उस पर एक लोकायुक्त नियुक्त किया है। इस कमेटी के चेयरमैन कंवर संधू होंगे, जबकि कमेटी के सदस्य पिरमल सिंह खालसा और कर्मजीत कौर मानसा हैं। लोकायुक्त केएस औलख को बनाया गया है, जो पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के पूर्व चांसलर हैं। यह लोकायुक्त उस 22 सदस्यीय कोर कमेटी से पूछेगा कि खैहरा और संधू को सस्पैंड किस आधार पर किया गया और उन्हंे इस तरह सस्पैंड करने का उनके पास क्या अधिकार है। उनके जवाब से संतुष्ट न होने पर उस अवैध कोर कमेटी के 21 सदस्यों और एक चेयरमैन को उलटा सस्पैंड किया जाएगा। 

खैहरा ने कहा कि उनको और संधू को सस्पैंड करने से साफ हो गया है कि अरविंद केजरीवाल कितने बड़े तानाशाह हैं। वह जिसे मर्जी जब मर्जी सस्पैंड कर नियम-कानूनों की धज्जियां उड़ा रहे हैं और अपने ही बनाए नियमों को तोड़ रहे हैं। यहां तक कि उन्होंने पार्टी के झंडे पर भी अपनी फोटो लगा रखी है, जबकि किसी भी पार्टी का कन्वीनर या सुप्रीमो अपनी फोटो झंडे पर नहीं लगा सकता। इससे साफ है कि आम आदमी पार्टी सिर्फ वन मैन शो है और इसमें डिक्टेटरशिप अपनाई जा रही है। 

दिसंबर में निकालेंगे पंजाब इंसाफ मार्च : खैहरा ने कहा कि दिसंबर में उनकी पार्टी पंजाब इंसाफ मार्च निकालेगी। यह मार्च बठिंडा से पटियाला तक निकाला जाएगा जो 8 दिन का होगा। इस बारे में डिटेल प्रोग्राम की घोषणा बाद में की जाएगी। इसमें तीन प्रमुख मुद्दे होंगे। पहला बेअदबी के दोषियों पर कार्रवाई करना। कैप्टन सरकार ने रणजीत सिंह कमीशन की रिपोर्ट अभी तक लागू नहीं की और एसआईटी बना दी। अगर एसआईटी ही बनानी थी तो कमीशन बनाने की क्या जरूरत थी। इसके अलावा कांग्रेस सरकार के मंत्रियों ने विधानसभा में जो 8 घंटे तक इस पर बहस की, वह समय बर्बाद किया गया, जबकि कार्रवाई कोई नहीं की गई। 

दूसरा मुद्दा किसानों को बदनाम करने से जुड़ा है। अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के किसानों पर पराली जलाकर दिल्ली में प्रदूषण फैलाने का आरोप लगा दिया है, जबकि हरियाणा के किसानों को क्लीन चिट दे दी है। पंजाब के किसानों को इस तरह बदनाम करने का वो विरोध करेंगे। तीसरा पंजाब की जवानी और किसानी बचाना उनका 
मकसद रहेगा। 

उनकी पार्टी नशे की रोकथाम के लिए ठोस नीति अपनाएगी। किसान कर्जे के बोझ से मर रहे हैं। उन्हें कोई मुआवजा नहीं दिया जा रहा। कांग्रेस सरकार ने अपने वादे पूरे नहीं किए। इन सभी मुददों को इंसाफ मार्च में उठाया जाएगा। 

सेखवां और अजनाला से हुई बात: खैहरा : अपनी भविष्य की राजनीतिक रुपरेखा से जुड़े सवाल पर खैहरा ने कहा कि उनकी पार्टी बसपा, अकाली दल मान, पंथक सोच वाले नेताओं, लाइक माइंडेड नेताओं और टकसाली नेताओं को इकटठा करके पंजाब के हित पर बात करेंगे। इस बारे में सेखवां, अजनाला और ब्रहमपुरा से उनकी बात भी हुई है। वे सभी मिलकर तीसरा विकल्प तलाशेंगे। इसकी घोषणा इंसाफ मार्च के बाद की जाएगी।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: The Corruption Committee has suspended us: Sukhpal Khaira

More News From punjab

Advertisement
Advertisement
free stats