image

चंडीगढ़: मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने इतिहास की किताब के बहाने कानून और व्यवस्था की स्थिति से खिलवाड़ करने के लिए शिअद प्रधान सुखबीर बादल की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि जब सरकार की तरफ से विशेषज्ञ ग्रुप द्वारा इन किताबों के जायजे का कार्य मुकम्मल कर लिए जाने तक नई किताबें न लगाए जाने की बात स्पष्ट कर दी गई है बावजूद अकालियों की तरफ से गड़बड़ी पैदा की जा रही है। मुख्यमंत्री निवास के पास पुलिस से अकालियों की झड़प पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सुखबीर कानून को अपने हाथों में लेने की कोशिश कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने कहा कि सुखबीर की यह कार्रवाई शिरोमणि अकाली दल के सामने आए मौजूदा संकट से लोगों का ध्यान हटाने की कोशिश है। अकाली दल लोकसभा चुनाव से केवल कुछ महीने पहले गंभीर अंदरूनी बगावत का सामना कर रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पहले ही पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (पी.एस.ई.बी) को 11वीं और 12वीं की इतिहास की मौजूदा किताबें तब तक जारी रखने के लिए निर्देश दिए हैं जब तक माहिर ग्रुप द्वारा किताबों के जायजे का काम मुकम्मल नहीं कर लिया जाता।

कैप्टन ने सुखबीर को यह भी याद करवाया कि उन्होंने पहले ही माहिर ग्रुप के व्यापक जायजे को यकीनी बनाने के लिए शिक्षा मंत्री को कहा है। उन्होंने सभी शिकायतों और सुझावों पर विचार करने के लिए भी निर्देश दिए हैं । मुख्यमंत्री ने शिक्षा मंत्री को यह भी निर्देश दिए हैं कि वह पी.एस.ई.बी की तरफ से इतिहास की किताबों के एक-एक करके चैप्टर जारी न करने को भी यकीनी बनाएं ।

उन्होंने कहा कि माहिर ग्रुप की तरफ से स्वीकृत और सत्यापित किताब ही सरकार उचित प्रयास के बाद प्रकाशित करेगी ।  मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यार्थियों को सिर्फ सही तथ्यों वाली किताबें पढ़ाने और पंजाब और सिख इतिहास में किसी भी तरह की त्रुटि पाठ्यRम में न होने देने के स्पष्ट निर्देश दिए जाने के बावजूद सुखबीर और उसका दल अपने संकुचित हितों के कारण इसको राजनैतिक रंग दे रहा है । इससे यह प्रकट होता है कि पंजाब के लोगों खासकर विद्यार्थियों के हितों के प्रति उनमें कोई भी संवेदनशीलता नहीं है।  

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Sukhbir, creating disturbance with false propaganda by making issue of book: Captain

More News From punjab

Advertisement
Advertisement
free stats