image

चंडीगढ़: सिंगर परमीश वर्मा को गोली मारने वाला कुखय़ात मोस्ट वॉन्टेड गैंगस्टर दिलप्रीत सिंह दाहा उर्फ बाबा ने जिस सैक्टर-38 गुरुद्वारा साहिब के बाहर के सरपंच सतनाम सिंह को गोलियों से छलनी कर हत्या की थी। उसने उसी गुरुद्वारा के भीतर अपनी माता और बहन से मुलाकात की थी। उसकी माता और बहन उसे यहां पर मिलने के लिए आई थी। दिलप्रीत अपनी पारिवारिक सदस्यों, दोस्तों से चंडीगढ़ में मुलाकात करता रहा, लेकिन चंडीगढ़ पुलिस के खुफिया तंत्र को इसकी भनक तक नहीं लग पाई थी।

नशे का आदी हो चुका है दिलप्रीत 
 गैंगस्टर दिलप्रीत सिंह दाहा उर्फ बाबा नशे का आदि हो चुका है। नशे का सेवन किए बिना उसका एक दिन भी रह पाना मुशकिल हो जाता है। गैंगस्टर दिलप्रीत बाबा के एनकाउंटर के दौरान उसकी जांघ में गोली लगने के बाद उसकी थाई बोन में फ्रेर हो गया है। इलाज कर रहे डॉक्टरों के मुताबिक उसका एक ऑपरेशन किया जा चुका है। एक हफ्ते के बाद थाई बोन की अलाइनमेंट ठीक करने के लिए एक ऑपरेशन किया जाएगा। डॉक्टरों के मुताबिक बाबा को पूरी तरह से ठीक होने में चार से छह हफ्ते का वक्त लग सकता है। दिलप्रीत बाबा को सोमवार को थाई में गोली लगने के बाद सोमवार को पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर में लाया गया था। तब से उसका पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है। उसका प्राइवेट वार्ड में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच डॉक्टर इलाज कर रहे हैं।

गैंगस्टर से बना नशा तस्कर 
दिलप्रीत की पास पैसों की कमी थी जिस कारण उसने गैंगस्टर से नशा तस्करी के कारोबार की तरफ रूख कर लिया। पहले शुरूवाती दिनों में वह पैसों के लिए नशे की तस्करी करता था। फिर बाद में उसने खुद नशा करना शुरू कर दिया। सबसे पहले उसने अफीम का सेवन करना शुरू किया, फिर दूसरों नशे के साथ उसने चिट्टे का सेवन करना शुरू कर दिया था। अब वह पूरी तरह से इसका आदि हो चुका है।

रायकोट से चुराई थी स्विफ्ट कार
सैक्टर-43 से गिरफ्तारी वाले दिन दिलप्रीत जिस स्विफ्ट कार में था उसने वह कार पंजाब के रायकोट से गन प्वाइंट पर चुराई थी। जिसके बाद से वह इसका नंबर बदकर इसका इस्तेमाल आपराधिक वारदातों को अंजाम देने के लिए कर रहा था।

हरविंदर सिंह उर्फ रिंदा ने करवाई हत्याएं
गैंगस्टर हर¨वदर सिंह उर्फ रिंदा को पंजाब में अपना खौफ बनाने के लिए किसी की जरूरत थी। जिसके लिए उसने दिलप्रीत को इस काम के लिए चूना, रिंदा ने ही नुरपूर बेदी में पहली हत्या ढ़ाबे में हलवाई की करवाई थी, उसके बाद एक पुलिस मुखबिर की, फिर एक पहलवान की, फिर एक महाराष्ट्र में करवाई और फिर उसके बाद पांचवा मर्डर सरपंच सतनाम की करवाई थी। जिसके बाद दिलप्रीत रिंदा के हर काम में शामिल होने लग गया था। दोनों अपने साथियों के साथ मिलकर आपराधिक वारदातों को अंजाम दिया करते थे। रिंदा ही दिलप्रीत से ड्रग की तस्करी करवाता था।

गर्लफ्रैंड रूपिंदर कौर के घर के सर्च की मिली मंजूरी
गैंगस्टर दिलप्रीत सिंह उर्फ बाबा पिछले करीब एक साल से सैक्टर-38सी स्थित जिस घर में गर्लफ्रैंड रूपिंदर कौर के साथ रह रहा था उसकी तलाशी के लिए चंडीगढ़ पुलिस ने अदालत से अनुमति मांगी है। हालांकि चंडीगढ़ पुलिस पंजाब पुलिस की टीम के साथ पहले ही घर की तलाशी ले चुकी है, लेकिन पुलिस ने खानापूर्ति के लिए अदालत से अनुमति मांगी है। याचिका को मंजूर करते हुए अदालत ने पुलिस को सर्च की मंजूरी दे दी है। इससे पहले चंडीगढ़ पुलिस की ओर से दायर याचिका में कहा गया था कि आरोपी पिछले एक साल से वेश बदल कर सैक्टर-38सी में रह रहा था। सोमवार को पंजाब पुलिस के साथ ज्वाइंट ऑप्रेशन के बाद दिलप्रीत सिंह उर्फ बाबा को गिरफ्तार किया गया था। उसकी गिर तारी के बाद उसके सेक्टर-38सी स्थित गर्लफ्रेंड के घर का पता चला था। वहीं पंजाब पुलिस की टीम ने उक्त घर की सर्च कर वहां से एक किलो हेरोइन, हथियार, कारतूस समेत सेक्स वर्धक दवाएं बरामद की थी। इसके बाद पंजाब पुलिस ने घर पर ताला लगा दिया था। अब चंडीगढ़ पुलिस ने उक्त घर पर लगे ताले को तोड़ घर सर्च की अनुमति मांगी है। हालांकि यह मात्र पुलिस के लिए खानापूर्ति है, क्योंकि पंजाब पुलिस पहले ही घर की सर्च कर सब कुछ जब्त कर चुकी है। वहीं उस समय चंडीगढ़ पुलिस की एक टीम भी वहां मौजूद थी। फिलहाल जिला अदालत ने उक्त याचिका मंजूर कर ली है।



DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: smuggler made from gangster then drown himself

free stats