image

भिवानी: हरियाणा की शिक्षा एक नया आयाम स्थापित कर रही है। प्रदेश के शिक्षा मंत्री हरियाणा की शिक्षा के साथ साथ बच्चों के भविष्य को लेकर चितिंत है तथा इस कड़ी को मजबूत करने के उद्देश्य से हरियाणा के छात्रों को दी जाने वाली स्कूली शिक्षा को व्यवसायिक शिक्षा प्रणाली के साथ जोड़ा जा रहा है ताकि छात्र पढ़ाई के बाद भटके नही बल्कि उसकों पढऩे के बाद तुरंत रोजगार उपलब्ध हो सके। इस दिशा में प्रदेश की सरकार ने अपने कदम बढ़ाने शुरू कर दिए हैं। प्रदेश की सरकार का लक्ष्य है कि मेक इन हरियाणा-मेक इन इंडिया अभियान को गति मिल सके। ये बात इंडिया स्पोर्टस संघ राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रीतिक वधवा ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही।  

 


उन्होंने कहा कि प्रदेश के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा इस कड़ी को मजबूत करने के उद्देश्य से स्कूली शिक्षा के सुधारीकरण पर प्रयासरत्त है तथा उनका सपना है कि हरियाणा के हर नौजवान को शिक्षा के बाद भटकना न पड़े बल्कि शिक्षा पूरी करने के बाद तुरंत उसे रोजगार मुहैया हो या फिर वह अपना रोजगार स्थापित कर सकें। इस कड़ी को मजबूत करने के उद्देश्य से ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों से सुझाव मांग कर एक अच्छी पहल की थी ताकि व्यवस्था को मजबूत बनाया जा सके। इसके लिए पचकूंला में राज्य स्तरीय परामर्श बैठक का भी आयोजन किया गया था, जिसमें 6072 ग्राम पंचायतों, 126 खंड़ो, 78 शहरी स्थानीय निकायां एंव 21 जिलों से सुझाव प्राप्त हुए हैं। सरकार अब इस ओर काम कर रही है। प्रदेश के शिक्षा मंत्री शिक्षा से कोई अछूता ना रहे इसके लिए पूर्ण व्यवस्था ऐसे छात्रों के लिए भी कर रहे है जो कि गरीब है। 

सरकार ने निर्णय लिया है कि अपग्रेडेशन ऑफ मैरिट ऑफ एससी स्टूडैंट्स योजना के अंतर्गत छात्रवास में रहने वाले नौंवी से बारहवीं कक्षा तक के अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए विशेष कक्षाएं आयोजित करके प्रतियोगिता हेतु तैयारी करवाई जा रही है। वर्तमान में यह योजना श्रीमद भगवत गीता सीनियर सैकेंडरी स्कूल, कुरुक्षेत्र में चलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि माध्यमिक शिक्षा को रोजगारोन्मुखी बनाने की दिशा में राज्य के 990 राजकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में 14 व्यवसायिक ट्रेडस शुरू किए गए हैं।

विद्यार्थी के रोजगार परक कौशल को बढ़ाने तथा उन्हें प्रशिक्षण प्रदान करने हेतू उद्योगों के साथ बेहतर तालमेल किया गया है। इन विद्यालयों में 81 हजार 7 सौ 47 विद्यार्थी मौलिक शिक्षा के साथ व्यवसायिक शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा में सबको साथ लेकर चलने के उद्देश्य से रैमेडियल टीचिंग शुरू की गई है। इसके लिए प्राथमिक पाठशालाओं में 3200 प्राथमिक पाठशालाओं में इसे शुरू किया गया है। शिक्षा सबके लिए ओर सबको मिले इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए प्रदेश के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने इस ओर बेहतर कदम उठा रखे है तथा उम्मीद भी यही की जा रही है कि हरियाणा की शिक्षा प्रणाली इतनी बेहतर होगी कि अन्य राज्य भी हरियाणा की शिक्षा प्रणाली को जानने के लिए यहां आएंगे। इस अवसर पर पार्षद मुकेश रहेजा, नवीन गुप्ता, रेखा गुप्ता, मनीष हालुवासिया, बाबू लाल स्वामी, विकास बीडीसी, विनोद कुमार, रमेश चौधरी, डा. योगेश सहित अनेक कार्यकत्र्ता मौजूद थे। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: now every student will get employment

More News From haryana

free stats