image

चंडीगढ़: अमृतसर के मैडीकल कालेज में लैरर के पद पर कार्यरत एक लैरर को 58 की आयु में रिटायर किए जाने के नोटिस पर हाईकोर्ट ने रोक लगाते हुए पंजाब के स्वास्थ्य विभाग के सचिव से हाईकोर्ट ने अब जवाब तलब कर लिया है। ऐसे और भी मामले हैं जहां 62 की बजाय 58 की आयु में रिटायर किए जाने के सरकार ने आदेश दिए हैं।

जस्टिस जसवंत सिंह ने यह आदेश इस मामले को लेकर विपन कुमार की ओर से एडवोकेट विकास चतरथ के जरिए दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए दिए हैं। इस मामले में अभी तक स्वास्थ्य विभाग और मैडीकल एजुकेशन विभाग में यह तय नहीं किया गया है कि याचिकाकर्ता किसके तहत कार्यरत है।

पंजाब के मैडीकल कालेजों में कार्यरत शिक्षकों की रिटायरमैंट एज 62 वर्ष है, जबकि याचिकाकर्ता जो अमृतसर मैडीकल कालेज में कार्यरत है, उसे 58 की आयु में रिटायर किए जाने के आदेश दे दिए हैं। इसी को याचिकाकर्ता ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है। हाईकोर्ट को बताया गया कि अभी तक याचिकाकर्ता को मैडीकल एजुकेशन विभाग के अंतर्गत ही नहीं माना गया है। इसी के चलते ऐसे आदेश दिए 
गए हैं।

हाईकोर्ट ने रिटायरमैंट के आदेशों पर रोक लगाते हुए कहा कि यह समझ से बाहर है कि एक लंबे आरसे तक कालेज में सेवा देने के बाद भी याचिकाकर्ता को अभी भी दूसरे विभाग के तहत ही माना जा रहा है। लिहाजा अब इस मामले में स्वास्थ्य सचिव हाईकोर्ट में हलफनामा दायर कर जवाब दें। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Notice of retired medical college lecturer at age 58

More News From punjab

Advertisement
Advertisement
free stats