image

उत्तर प्रदेश के माफिया मुन्ना बजरंगी की सोमवार को यूपी के बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई है सोमवार को उसकी पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने के आरोप में बागपत कोर्ट में पेशी होनी थी जिसके लिए उसे रविवार को झांसी से बागपत लाया गया था। लेकिन कोर्ट में पेश होने से पहले ही जेल में उसे गोली मार दी गई 7 लाख का इनामी बदमाश रह चुका सुपारी किलर मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या होने से हड़कंप मचा है

आपको बता दें कि 11 सितंबर 1998 में पुलिस ने मुन्ना बजरंगी को एक मुठभेड़ में मारने का दावा किया था, मौत की ख़बर तक प्रसारित हो गई थी लेकिन मुन्ना जब अस्पताल पहुंचा तो उसकी सांसे चलती मिली। उस समय मुन्ना पर पांच लाख रुपये का इनाम था, दिल्ली और यूपी पुलिस की संयुक्त टीम ने उसे समयबादली थाना क्षेत्र में हुई मुठभेड़ में मारने का दावा किया। जब उसकी मौत की ख़बर आयी तो लोगों ने राहत की सांस ली लेकिन जब राममनोहर लोहिया अस्पताल पर पहुंच कर उसने आंखे खोली तब उसके शातिर होने का लोगों को अहसास हुआ।

दर्जनों गोली लगे होने के बावजूद भी उस समय मुन्ना ने यमराज की आंखों में धूल झोंक कर मौत को मात दे थी। मुन्ना गाजीपुर से एक महिला को भाजपा की टिकट दिलवाने की कोशिश कर रहा था जिसके चलते ही उसके मुख्तार अंसारी से संबंध खराब हो रहे थे, यही वजह थी कि मुख्तार उसके लोगों की मदद नहीं कर रहे थे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: munna bajrangi shot dead at jail

Advertisement
free stats