image

मुंबई : ‘द ग्रेट इंडियन डिस्फंगक्शनल फैमली’ और ‘वॉट द फोक्स’ नामक वेब शो की प्रसिद्ध अभिनेत्री ईशा चोपड़ा ने कहा कि मीटू मुहिम के कारण कार्यस्थलों पर पुरुषों और महिलाओं की चेतना जागृत हुई है जोकि एक सकारात्मक बदलाव है। 

ईशा ने आईएएनएस से कहा, ‘‘मैं उन सभी महिलाओं का शुक्रिया अदा करती हूं जो अपनी कहानी के साथ आगे आईं। मुङो लगता है कि पूरे मीटू मुहिम ने पुरुषों और महिलाओं के बीच सकारात्मक चेतना पैदा की है। इससे हम सभी महिलाएं हमारे कार्यस्थल पर सुरक्षित और आत्मविश्वास से भरी हुई महसूस कर सकती हैं।’’

'देश छोड़ने वाले' बयान पर हुए विवाद पर विराट कोहली ने दी सफाई, कही ये बात...

हॉलीवुड में आए मीटू मुहिम के बाद भारतीय फिल्म उद्योग में भी महिलाओं ने कार्यस्थल पर होने वाले यौन उत्पीड़न की घटना के खिलाफ आवाज उठाई। 

ईशा मानती है कि यह मुहिम कार्यस्थल को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाएगी। 

ईशा ने कहा, ‘‘यौन उत्पीड़न का सामना करने वाले एक पीड़ित व्यक्ति के लिए कई वर्षो बाद अपनी कहानी साझा करना आसान नहीं होता। जब हमारे पास बुरी यादें होती हैं तो हम उसे खंगालने के बजाय उसे भूलना चाहते हैं।

2 लाख टिकटों के साथ 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' की एडवांस बुकिंग ताेड़ेगी सभी फिल्माें के Record

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन ये महिलाएं जो अपनी कहानियां साझा कर रही हैं। वे खुद के लिए ऐसा नहीं कर रही हैं, बल्कि हमारे लिए कर रही हैं ताकि वे नई पीढ़ी की महिलाओं के बीच जागरूकता पैदा कर सकें और उन्हें कठिन परिस्थितियों का सामना करने तथा भेदभाव के खिलाफ खड़े होने के लिए तैयार कर सकें।’’

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Meatu campaign awakened consciousness in men and women

More News From metoo

Advertisement
Advertisement
free stats