image

भोपालः मध्यप्रदेश में आज नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख के पहले प्रदेश के कई हिस्सों में दोनों दलों में बगावत के सुर मजबूत हो गए हैं। प्रदेश में जिन आला नेताओं की अपने दलों से बगावत के मामले सबसे ज्यादा सुर्खियों में है, उनमें प्रमुख नाम स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद और विधायक सरताज सिंह का है।

Read More  भारत को जवाब देने के लिए अब पाक अपना रहा हैं ये रास्ता

भाजपा द्वारा सिवनी-मालवा से टिकट नहीं दिए जाने से नाराज सिंह कल विधिवत कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्हें कांग्रेस ने होशंगाबाद सीट से भाजपा के दिग्गज नेता और विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा के खिलाफ चुनावी मैदान में उतारा है। सिंह शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल में भी शामिल थे, लेकिन दो साल पहले उन्हें मंत्री पद से हटा दिया गया था।

Read More भारत पहली बार तालिबान के साथ मंच करेगा साझा, इस अहम मुद्दे पर हाेगी बात 

कांग्रेस के आला नेताओं के सुर भी टिकट वितरण से असंतुष्ट होकर बागी हो रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी ने कल अपने पुत्र नितिन चतुर्वेदी को छतरपुर जिले की राजगर सीट से समाजवादी पार्टी से पर्चा भरवा दिया। श्री सिंह लंबे समय से अपने बेटे के लिए टिकट मांग रहे थे, लेकिन पार्टी ने इस बार उनके पुत्र की जगह उनके भाई को टिकट दे दिया था।

Read More गांवों में घुसे आतंकवादी, पुलिस ने 16 को उतारा मौत के घाट

वहीं पूर्व भाजपा सांसद जितेंद्र सिंह बुंदेला इसी जिले की महाराजपुर विधानसभा से टिकट न दिए जाने से नाराज होकर समानता दल से चुनाव लड़ रहे हैं। राजनीतिक दृष्टि से बेहद अहम बुंदेलखंड के छतरपुर जिले की छह में से पांच विधानसभाओं में दोनों दलों में बगावत हो रही है। 

Read More अब पाक पीएम ने दिया पंजाब को आर्थिक सहायता देने का निर्देश

छतरपुर की ही राजनगर सीट से टिकट मांग रहे भाजपा के दो बार के सांसद और पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमारिया ने भी बगावती सुर अपनाते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है। 
 

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Madhya Pradesh Assembly Elections: Rebellion In Both Parties, Know Who Was Involved 

More News From national

Advertisement
Advertisement
free stats