image

आजकल इंटरनेट का दौर है और ज्यादातर लोग इंटरनेट पर हद से ज्यादा भरोसा कर लेते हैं। लेकिन बहुत से लोग एेसे भी हैं जो इसका गलत फायदा उठाते हैं। इंटरनेट पर फर्जी काम करते हैं। अभी इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने का दौर है। इंटरनेट पर धोखे से शिकार करनेवाले भी इस मौके को भुनाने में जुटे हैं। टैक्सपेयर्स को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के मेल से मिलती-जुलती आईडी से मेल आ रहे हैं , जिसमें कहा जा रहा है कि 'रिफंड अमाउंट पाने के लिए' अपने नेटबैंकिंग डीटेल्स दें। बता दें कि ये मेल धोखाधड़ी करनेवालों की ओर से आ रहे हैं, ये उनकी फर्जी आईडी है। 

एेसे पहचानें सही और फर्जी आईडीः फर्जी मेल आईडी और सही सरकारी आईडी में दो अंतर हैं। पहला यह कि फर्जी मेल में सिर्फ फाइलिंग है जबकि सही सरकारी मेल आईडी में फाइलिंग से पहले ई है। दूसरा अंतर फाइलिंग की स्पेलिंग को लेकर है। फर्जी मेल आईडी में filling में डबल एल है जबकि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की मेल आईडी में फाइलिंग filing की सही स्पेलिंग यानी सिंगल एल है। 

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के प्रवक्ता ने कहा, 'हम अपनी वेबसाइट पर चेतावनियां जारी करते रहते हैं। साथ ही हम टैक्सपेयर्स को टेक्स्ट मेसेज भेजकर भी ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में सचेत करते रहते हैं। सबसे बढ़िया तो यह है कि इस तरह के संदिग्ध मेल का जवाब नहीं दें और न ही बैंक अकाउंट या क्रेडिट कार्ड डीटेल्स शेयर करें क्योंकि हम इनकी मांग नहीं करते।' 

हालांकि, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर तो कोई चेतावनी नहीं मिली, लेकिन चार्टर्ड अकाउंटैंट्स और टैक्स रिटर्न तैयार करनेवालों ने वॉट्सऐप पर चेतावनी जरूर जारी की है। वॉट्सऐप मेसेज में लिखा गया है, 'जिन लोगों को रिटर्न फाइल करने के बाद टैक्स की गणना में गलती और रिफंड अमाउंट भेजने को लेकर मेल मिल रहे हैं, उनके लिए एक महत्वपूर्ण जानकारी- कृपया ऐसे मेल को नजरअंदाज करें। ये मेल हैकर्स भेज रहे हैं। इस मेल पर क्लिक करते ही सीधा नेटबैंकिंग पेज खुल जाएगा और आपने जैसे ही अपना नेटबैंकिंग साइट लॉग इन किया, आपका बैंक अकाउंट हैक हो जाएगा। ध्यान रखिए, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपको मिलनेवाले रिफंड की जानकारी प्रॉपर नोटिस भेजकर देगा।' 


 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: if you are getting this mail of getting itr then be careful

free stats