image

चौथा ट्रांस-हिमालय विकास मंच 11 सितम्बर को दक्षिण पश्चिमी चीन के युन्नान प्रांत के त-होंग ताई और चिंगफो जातीय प्रिफेक्चर में आयोजित हुआ। मंच की थीम है“ट्रांस-हिमालय विकास सहयोग, विचारधारा से वास्तविकता तक”। चीन, अफ़गानिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका और म्यांमार आदि 7 देशों के सरकारी अधिकारियों, विद्वानों और उद्यमियों ने इसमें भाग लिया और समान क्षेत्रीय विकास के संवर्धन, रूख के समन्वय, उपाय की खोज, अनवरत विकास और समान समृद्धि की प्राप्ति आदि विषयों पर गहन रुप से विचारों का आदान-प्रदान किया।

श्रीलंकाई विदेश मंत्रालय के सहायक सचिव सुमित नाकंदला के विचार में ट्रांस-हिमालय विकास सहयोग के विषयों में संसाधन, ऊर्जा, जल सिंचाई, गैर-पारंपरिक सुरक्षा क्षेत्रों, पर्यावरण संरक्षण, जलवायु परिवर्तन, संस्कृति, मानविकी आदान-प्रदान, पर्यटन और शिक्षा आदि शामिल होनी चाहिए।  

गौरतलब है कि अगस्त 2015 में पहला ट्रांस-हिमालय विकास मंच आयोजित हुआ। तब से अब तक यह मंच चीन और दक्षिण एशियाई तथा दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों के बीच मित्रवत आदान-प्रदान और सहयोग का महत्वपूर्ण मंच और सेतु बन चुका है।

 

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Fourth Trans Himalaya Evolution Forum Explained

Advertisement
free stats