image

डबवाली: देश एवं प्रदेश में भाजपा के राज में किसान आत्महत्या कर रहा है तो सीमा पर देश की रक्षा करने में नौजवान अपना सबकुछ न्यौछावर कर रहा है। न किसान को बचाने के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू की गई और न ही सीमा पर भारतीय जवान की शहादत के बदले दस पाकिस्तानियों के सिर काट कर लाए गए। इतना ही नहीं बेरोजगारों को 9 हजार मासिक भत्ता देना तो दूर की बात, पहले से नौकरी कर रहे नौजवानों की नौकरी छीनी जा रही है।

 

अब समय आ गया है कि जुमलेबाजों की सरकार को चलता करें और किसान और नौजवानों के हितों की रक्षा करने वाले इनैलो को सत्ता में लाएं। यह आह्वान इनैलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने डबवाली में किसान-नौजवान महासभा में उमड़े जनसैलाब को संबोधित करते हुए किया। इससे पहले दुष्यंत चौटाला स्वयं ट्रैक्टर चलाते हुए डबवाली गांव से ट्रैक्टरों के काफिले के साथ सभा स्थल पर पहुंचे। ट्रैक्टर को टोल फ्री और कामर्शियल वाहन की श्रेणी से निकलवाने के लिए किसानों ने कार्यक्रम में ट्रैक्टर का मॉडल सम्मान स्वरूप भेंट किया। उन्होंने कहा कि टैक्टर को टैक्स फ्री करवा दिया अब कम्बाइन की बारी है। भाजपा के शासन में किसानों की बदहाली और नौजवानों की अनदेखी के विरोध में आयोजित इस सम्मेलन में रोष व्यक्त करने डबवाली की अनाजमंडी में हजारों किसान-नौजवान पहुंचे। 

इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्वजय सिंह चौटाला ने महासभा में इनैलो नेताओं, किसानों-नौजवानों का स्वागत किया। दुष्यंत ने 7 मार्च को नई दिल्ली में एसवाईएल को लेकर होने वाले रैली में रिकार्डतोड़ संख्या में पहुंचने का आह्वान किया। महासभा के बतौर मुख्यवक्ता इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने भाजपा सरकार पर कड़े प्रहार किए। उन्होंने कहा कि जब भाजपा सत्ता में नहीं थी तो स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की मांग को लेकर भाजपा नेता ओमप्रकाश धनखड़ और सुभाष बराला ने अर्धनगA होकर पूरे प्रदेश में यात्र की थी। इन भाजपा नेताओं का तर्क था कि केवल स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट ही किसानों की आर्थिक तंगी से उबार सकती है और नौजवानों को रोजगार देने और रोजगारन न मिलने वालों को 9 हजार रुपए बेरोजगारी भत्ता देने का वायदा किया था।

प्रदेश की जनता ने भाजपा नेताओं की बातों पर विश्वास कर लिया और उन्हें सत्ता सौंप दी परन्तु अब सत्ता में आते ही इन नेताओं के न केवल सुर बदल गए बल्कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को कूड़ेदान में डाल कर सुप्रीम कोर्ट में भी इसे लागू न हो पाने के तर्क दे डाले। दुष्यंत ने कहा कि किसानों की माली हालात इतनी खराब हो चुकी है कि कर्ज की मर्ज में डूबे किसान मौत को गले लगाने को मजबूर हैं। प्रदेश के किसानों को फसलांे के लाभकारी मूल्य, समय पर बीज-खाद व पानी न मिलने के कारण उसकी आमदनी घट रही है और खर्चा बढ़ रहा है जिसके कारण किसान कर्ज अदा नहीं कर पा रहे हैं। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनैलो की सरकार आने पर स्नातक की शिक्षा की फ्री की जाएगी, किसान कमेरे वर्ग का कर्ज माफ होंगे, किसानों के ट्यूबवैल का कनैक्शन फ्री और बिल फ्री होगा, गरीब कन्या की शादी में पांच लाख रूपये कन्यादान, हर घर में एक नौकरी और रोजगार सुनिश्श्चित किया जाएगा। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: farmers dying young and farm on the border dushyanta chautala

More News From haryana

free stats