image

सभी जानते है कि मां लक्ष्मी धन की देवी है। सभी मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए अनेकों उपाय करते है। बाकी ये भी सभी जानते है कि प्रत्येक देवता के अपने-अपने वाहन होते है। मां लक्ष्मी का वाहन उल्लू है, लेकिन क्या आप जानते है कि मां लक्ष्मी ने उल्लू को ही क्यों अपना वाहन बनाया। तो चलिए आज आपको बताते है इसके पीछे की कथा कि आखिर उल्लू बने मां लक्ष्मी की सवारी -

एक बार सभी देवी देवता अपना-अपना वाहन चुन रहे थे जब लक्ष्मी जी की बारी आई तो वे सोचने लगीं कि किसे अपना वाहन चुनें लक्ष्मी जी जब अपना वाहन चुनने में सोच-विचार कर रहीं थीं उतनी देर में पशु-पक्षी लक्ष्मी जी का वाहन बनने की होड़ में आपस में लड़ाई करने लगे। इस पर लक्ष्मी जी ने उन्हें चुप कराया और कहा कि प्रत्येक वर्ष कार्तिक अमावस्या के दिन मैं पृथ्वी पर विचरण करने आती हूं उस दिन मैं आप में से किसी एक को अपना वाहन बनाऊंगी।

कार्तिक अमावस्या के रोज सभी पशु-पक्षी आंखें बिछाए लक्ष्मी जी की राह निहारने लगे रात्रि के समय जैसे ही लक्ष्मी जी धरती पर पधारी उल्लू ने अंधेरे में अपनी तेज नजरों से उन्हें देखा और तीव्र गति से उनके समीप पंहुच गया और उनसे प्रार्थना करने लगा की आप मुझे अपना वाहन स्वीकारें। लक्ष्मी जी ने चारों ओर देखा उन्हें कोई भी पशु या पक्षी वहां नजर नहीं आया तो उन्होंने खुशी-खुशी उसे अपना वाहन स्वीकार कर लिया लक्ष्मी जी ने उल्लू को अपना वाहन बनाकर धरती की परिक्रमा की और तब से लक्ष्मी जी का वाहन उल्लू हो गया।



DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Do you know how owl became Maa Lakshmi's vehicle

free stats