Advertisement
image

गाजियाबाद: जहां मोदी सरकार डिजीटल इंडिया की बातें कर रही है वहीं देश की राजधानी दिल्ली सीमा से लगे गाजियाबाद नगर निगम के आईटी विभाग को शायद ये जानकारी नहीं कि नगर निगम के उद्यान विभाग का प्रभारी एवं शहरी क्षेत्र का उद्यान पर्यवेक्षक कौन हैं। जो कर्मचारी करीब 2 साल पहले रिटायर हो चुका उसे मौजूदा समय में भी उद्यान विभाग का पर्यवेक्षक बताया जा रहा है। निगम साइट पर उद्यान प्रभारी के तौर पर एसके तिवारी एवं उधान पर्यवेक्षक के तौर पर ताराचंद का नाम देखा जा सकता है। बल्कि निगम की साइट पर इंदिरापुरम को जोन के रूप में दर्शाया जा रहा है जबकि इंदिरापुरम का रखरखाव अभी तक जीडीए के द्वारा किया जा रहा है और नगर निगम अपने खातें में लेने के पक्ष में नहीं है।
यहीं नहीं निगम की साइट पर देखा जाए तो शिकायतों के निस्तारण के मामले में निगम का जलकल विभाग पूरी तरह से फिसड्डी साबित हो रहा है।

कुल मिलाकर देखा जाए तो कुल प्राप्त 30808 प्राप्त हुई शिकायतों में से तय अविध बीतने के बावजूद 7499 शिकायतों का निस्तारण नहीं किया जा सका है। इन शिकायतों का कब तक निस्तारण होगा ये भी कोई बताने की स्थिति में नहीं है। माना जा रहा है कि नगर निगम में शायद ये कोई देखने वाला नहीं है कि निगम की साइट पर क्या कुछ चल रहा है। आईटी विभाग को साइट अपडेट करने के नाम पर मुफ्त का पैसा दिया जा रहा है। हालांकि मेयर आशा शर्मा ने कहा कि निगम साइट को अपडेट करने के अधीनस्थ अधिकारियों को आदेश दिए गए हैं। निगम की साइट पर शिकायतों के निस्तारण के मामले में देखा जाए तो स्वास्थ्य विभाग से संबंधित 9628 शिकायतें प्राप्त हुई एवं दस जुलाई तक तय समय अविध बीतने के बाद भी 1280 शिकायतों का निस्तारण नहीं किया जा सका।

जलकल विभाग में 10004 में से 1639 शिकायतों का तय अविध बीतने के बाद निस्तारण नहीं हो सका, जबकि प्रकाश विभाग में 11835 शिकायतों में से 1102 शिकायतें तय अविध बीतने के बाद भी लंबित है। संपित्त एवं कर विभाग में 106 शिकायतें तय अविध बीतने के बाद भी अधर में लटकी हुई है। उधान विभाग में 1336 शिकायतांे में से 1029 शिकायतों का एक लंबे समय बाद भी निस्तारण नहीं किया जा सका है। निर्माण विभाग में 3628 शिकायतों में से 1154 शिकायतों का निस्तारण और प्रवर्तन विभाग में 1662 शिकायतों में से 1189 शिकायतों का कब निस्तारण होगा ये कोई बताने वाला ही नहीं है। 

पंजाब और देश - विदेश से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक। Youtube

Web Title: digital indias bad news corporation site is useless


advertisement
free stats