image

चंडीगढ़: क्राइम ब्रांच व थाना पुलिस का आमना-सामना तो चंडीगढ़ शहर में आम सी बात हो गई। क्राइम ब्रांच व थाना पुलिस एक दूसरे से कोई भी इफरेमेशन शेयर नहीं करती। इसका मुख्य कारण यह भी है कि चंडीगढ़ की एसएसपी निलांबरी विजय जगदले के पास क्राइम ब्रांच का चार्ज तक नहीं है। दैनिक सवेरा एक ऐसा मामला सामने रख रहा है जिसमें क्राइम ब्रांच के जहां नंबर बनने थे के बजाए उन्हें बैकफुट पर जाना पड़ गया। हुआ यूं कि क्राइम ब्रांच ने एक स्नैचर पकड़ा था, लेकिन थाने से उनको स्नैचिंग की फाइल न मिलने के चलते इस यूनिट को निराश होना पड़ गया और क्राइम ब्रांच द्वारा पकड़ा गया स्नैचर उन्हें सैक्टर-36 थाना पुलिस को सौंपना पड़ गया। 

 सूत्रों के अनुसार शहर में कई दिनों से लगातार स्नैचिंग की वारदातों के चलते एसएसपी निलांबरी विजय जगदले के सख्त आदेशों के बाद एएसपी साऊथ निहारिका भट्ट के नेतृत्व में साऊथ डिवीजन के सैक्टर-36 थाना पुलिस की टीम ने एक स्नैचर को पकड़ लिया। वहीं क्राइम ब्रांच भी स्नैचरों को पकड़ने में लगी हुई थी और इसी के चलते थाना पुलिस द्वारा पकड़े गए स्नैचर का दूसरे साथी क्राइम ब्रांच के हाथ लग गया, लेकिन अगर कहीं भी शहर में स्नैचिंग हो जाती है तो मामला एरिया देखकर थाने में ही दर्ज किया जाता है। अब क्राइम ब्रांच को स्नैचिंग की फाइल चाहिए थी, जोकि पुलिस स्टेशन-36 में मिलनी थी, क्यूूंकि जिस स्नैचर को क्राइम ब्रांच ने पकड़ा था उसने स्नैचिंग सैक्टर-36 थाने के एरिया में की थी।

क्राइम ब्रांच द्वारा थाना पुलिस से कई बार फाइल मांगनी चाही, लेकिन बावजूद उन्हें फाइल के बजाए उनके हाथ निराशा लगी और क्राइम ब्रांच को न चाहकर भी थाना पुलिस को स्नैचर देना पड़ गया। अब सैक्टर-36 थाना पुलिस ने उन दोनों स्नैचिरों की गिरफ्तारी डाली और उनकी निशानदेही पर पुलिस ने रिक्वरी शुरू कर दी है। सूत्र बता रहे हैं कि पकड़े गए स्नैचर वहीं हैं, जिन्होंने कुछ ही दिन पहले सैक्टर-53 के जंगल के पास से एक व्यक्ति की चाूक दिखाकर उसका मोबइल फोन छीना था और उन्होंने ही धनास के रहने वाले एक व्यक्ति के 7 हजार रुपए व मोबाइल फोन भी छीन लिया था। ये दोनों केस पकड़े गए स्नैचरों से सैक्टर-36 थाना पुलिस ने सॉल्व कर लिए हैं। बाकी पुलिस अब इन्हें शनिवार को जिला अदालत में पेश कर सकती है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि एक स्नैचर को पकड़कर क्राइम ब्रांच अपने नंबर बनाने में लगी थी, लेकिन स्नैचिंग की फाइल न मिलने से उनके नंबर बैकफुट पर चले गए। हालांकि अधिकारिक तौर पर अभी तक इन दोनों स्नैचरों के पकड़े जाने की पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन पुलिस आज इन स्नैचरों का बड़ा खुलासा कर सकती है। 

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Did not found the File Crime branch

More News From chandigarh

Advertisement
Advertisement
Advertisement
free stats