image

श्रीनगरः दक्षिण कश्मीर में हिमालय की वादियों में स्थित पवित्र अमरनाथ गुफा में स्वनिर्मित हिम शिवलिंग अब पूरी तरह पिघल चुका हैं लेकिन श्रद्धालु अभी भी गुफा के दर्शन के लिए आ रहे हैं जो उनकी आस्था और विश्वास का प्रतीक है। यात्रा के शुरु होने पर शिवलिंग पूरे आकार का था लेकिन अब यह पूरी तरह पिघल चुका है। फिर भी लोगों में गुफा के दर्शन करने की होड़ कम नहीं हुई है। यही वजह है कि गत 28 जून से शुरु हुई  60 दिवसीय इस यात्रा में अबतक पौने तीन लाख से अधिक लोग शामिल हो चुके हैं। 

जम्मू आधार शिविर भगवती नगर में रुके लगभग 300 तीर्थयात्रियों ने गुरुवार सुबह बालटाल और नुनवान पहलगाम आधार शिविरों के लिए यात्रा शुरु कर दी। तीर्थयात्रियों की संख्या को काफी कम होता देख कई सेवा प्रदाताओं ने आधार शिविर छोड़ दिएं है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पहले महीने में श्रद्धालुओं की संख्या हजारों हुआ करती थीं वहीं, अब यह  केवल सिमट कर सैकड़ों में आ गई हैं। इस वार्षिक यात्रा का समापन 26 अगस्त को होगा जब भगवान शिव की चांदी की छड़ी मुबारक’ को अंतिम पूजा के लिए गुफा के भीतर ले जाया जाएगा। उसी दिन शाम में‘छड़ी मुबारक’की वापसी यात्रा भी शुरु हो जाएगी।



DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Despite melting of Shivling, the faith of the devotees continued

free stats