image

बैंकिंग और फाइनैंस या फिर माइक्रो-फाइनैंस सैक्टर में करियर बनाने के लिए अभ्यर्थी का किसी भी संस्थान से डिप्लोमा या पीजी डिप्लोमा कोर्स करना जरूरी है। पीजी डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनैंस और एडवांस डिप्लोमा इन बैंकिंग एंड फाइनैंस कोर्स करके बैंकिंग व फाइनैंस सैक्टर में जॉब तलाश सकते हैं। डिप्लोमा कोर्स के लिए 12वीं में 50 प्रतिशत अंक से पास व ग्रैजुएशन कोर्स के लिए किसी विषय में 50 प्रतिशत अंक से उत्तीर्ण जरूरी है। 

बेहद सस्ते हुए Samsung के ये दो नए पॉपुलर स्मार्टफोन, अब इतनी हुई कीमत

नए रास्ते 
जैसे-जैसे भारत की आर्थिक स्थिति मजबूत होती जा रही है, वैसे-वैसे माइक्रो-फाइनैंस सैक्टर में भी करियर की नई संभावनाएं सामने आ रही हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था बहुत जल्द ही विकास दर के मामले में चीन को पछाड़ देगी। इससे जुड़ा एक क्षेत्र बहुत तेजी से भारतीय अर्थव्यवस्था में अवसरों की बहार लेकर आ रहा है, वह सैक्टर है माइक्रो-फाइनैंस। 

सैलरी पैकेज 
इस क्षेत्र में सैलरी 15-20 हजार रुपए से शुरू होती है। बाद में बेहतर काम से पदोन्नति के रास्ते खुलते हैं। इस सैक्टर की प्रमुख बात यह भी है कि इसमें अनुभव प्राप्त कर लेने के बाद इंश्योरैंस कंपनियां, एन.जी.ओ., बैंकों आदि में भी जॉब मिलने के मौके बनने लगते हैं। इस तरह इस क्षेत्र में काम करने के बाद बैंकिंग के अन्य विकल्पों में भी मौके मिलने लगते हैं। 

इस कंपनी ने सिर्फ 4,444 रुपये में लॉन्च किया फेस अनलॉक वाला नया स्मार्टफोन

अवसर 
इस क्षेत्र में कई तरह के जॉब्स हैं। भारत में नाबार्ड आदि के अलावा विभिन्न बैंकों द्वारा भी माइक्रो फाइनैंसिंग की सेवाएं दी जाती हैं। कई तरह की माइक्रो-फाइनैंस (एमएफआई) ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत हैं जैसे बंधन, एस.के.एस., माइक्रो क्रैडिट फाऊंडेशन ऑफ इंडिया, साधना माइक्रोफिन सोसायटी आदि। इनमें जॉब के अवसर मिलते रहते हैं। 

सिर्फ 1,299 रुपए में Nokia ने लॉन्च किया अपना नया फोन Nokia 106

कैसे मिलेगा प्रवेश 
बैंकिंग क्षेत्र में जरूरत इस बात की है कि संबंधित व्यक्ति तुरंत चीजों को समङो और हर तर्क को समझने में पूर्ण तरीके से सक्षम हो। बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में पीजी डिप्लोमा करने के लिए पहले तो एप्टीट्यूड टेस्ट में पास होना जरूरी है और इसमें निजी रूप से साक्षात्कार भी देना होगा। इसमें मूलत: अंग्रेजी, गणितीय योग्यता, लिखित परीक्षा में रीजनिंग आदि की जांच की जाती है। टेस्ट का मुख्य उद्देश्य छात्रों की बैसिक जानकारी को जांचना होता है। परीक्षा पूर्ण होने के बाद उन्हें इंटर्नशिप, शिक्षा लोन आदि कोर्स के बारे में बताया जाता है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Create your career in the field of micro-finance

More News From career

Bangali Guru
free stats