image

ब्रज मोहन सिंह

आप सिद्धू को बड़बोला कह सकते हैं, राजनीति में कच्चा कह सकते हैं लेकिन आप सिद्धू को दरकिनार नहीं कर सकते। नवजोत सिंह सिंह सिद्धू पारंपरिक राजनेता के तौर पर नहीं देखे जाते, जैसे वह कभी सुनील गावस्कर या राहुल द्रविड़ की तरह क्लासिकल प्लेयर नहीं रहे। खेला तो खूब खेला, आउट हो गए तो मलाल नहीं।

क्रिकेट के जानकारों को याद होगा कि अजहरुद्दीन से इंग्लैंड में झगडा हो गया तो दौरे के बीच में ही वापस हिंदुस्तान आ गए, ऐसा अमूमन होता नहीं है। पिछले दिनों अपने विवादित पाकिस्तान दौरे के समय सिद्धू ने वहां के सेनाध्यक्ष कमर बाजवा को गले लगाकर एक बड़े विवाद को जन्म दे दिया, लेकिन अब सिद्धू को इस बात के लिए क्रेडिट मिलना चाहिए कि उनके प्रयासों की बदौलत करतारपुर कॉरिडोर खुलने जा रहा है।

पिछले तीन दशकों से इस बात की लगातार मांग की जा रही थी सिखों को करतारपुर साहिब के दर्शन करने लिए एक रास्ता दिया जाना चाहिए। सिद्धू जब इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तान गए थे तो इस बात को लेकर खूब चर्चा हुई थी लेकिन एक महीने के अन्दर ही सिद्धू ने ऐसा कदम उठाकर साबित कर दिया है कि वो जो बोल रहे थे उसमें सच्चाई थी।

करतारपुर साहिब एक ऐसा धार्मिक स्थल है जहाँ सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक जी ने अपने 17 साल से ज्यादा समय बिताया था, यही उनके माता-पिता की भी मौत हुई थी। सिख समुदाय के लोगों के लिए इससे ज्यादा बड़ी बात और क्या हो सकती है कि उन्हें करतारपुर साहिब तक पहुँचने का मौका बगैर वीजा के ही मिल जाएगा?

नवजोत सिद्धू का विरोध यहाँ पंजाब में भी हुआ था जब राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि पाकिस्तानी सेना मुखी कमर बाजवा से गले मिलकर नवजोत सिंह सिद्धू ने गलत किया है। हालाँकि बाद में सिद्धू के इस कदम को देखते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को पत्र लिखकर करतारपुर कॉरिडोर को खुलवाने की मांग की।

नवजोत सिंह सिद्धू क्रीज़ से बाहर जाकर बल्लेबाजी करते हैं, उन्हें परवाह नहीं कि आउट होंगे या क्या नतीजा आएगा। कांग्रेस में पंजाब के नेताओं की सिद्धू बहुत परवाह नहीं करते। सिद्धू तो अपने बॉस यानि कैप्टन अमरिंदर सिंह की बात भी अनसुना कर देते हैं लेकिन फिर अगले दिन आप देखते हैं कि वही सिद्धू कैप्टन के पैर छूकर उनका आशीर्वाद भी ले लेते हैं। आप कह सकते हैं कि सिद्धू ने सिर्फ पार्टी बदली है, उनका अंदाज़ वही पुराना है।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: Batting of Sidhu on the political crease

More News From national

Advertisement
Advertisement
free stats