image

पटना: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह अपने दो दिवसीय दौरे के पहले दिन गुरुवार को अगले लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं में जहां उत्साह का संचार किया, वहीं जद (यू) के अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से दो मुलाकातों से विपक्ष को यह भी संदेश देने की कोशिश की कि राजग में कहीं कोई मतभेद नहीं है, जद (यू) से गठबंधन अटूट है। भाजपा अध्यक्ष शाह ने भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि विपक्षी महागठबंधन ‘लार टपकाता रहे’ मगर नीतीश कुमार के साथ गठबंधन नहीं टूटेगा। उन्होंने दावा किया कि अगले लोकसभा चुनाव में बिहार की 40 में से 40 सीटें राजग जीतेगा। कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हमने जिस जीत की आदत डाली है, उसे बनाए रखना होगा।’’ 

पटना में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ बैठक के बाद भाजपा शक्ति केंद्र प्रभारियों को संबोधित करते हुए शाह ने बिहार के गौरवशाली इतिहास की चर्चा की और देश को कांग्रेस मुक्त करने के अपने अभियान की चर्चा कहते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस मुक्त भारत बनाने की शुरुआत बिहार से ही हुई है। कांग्रेस के आपातकाल के दौरान इसी धरती पर जयप्रकाश नारायण निकले और कांग्रेस को हटा दिया। बिहार के राजेंद्र प्रसाद, कपरूरी ठाकुर जी और जय प्रकाश नारायण ने देश को दिशा दी है।’’ यह बात दीगर है कि कांग्रेस मुक्त भारत की कल्पना करने वाले अमित शाह अपने गृहराज्य को अब तक कांग्रेस मुक्त नहीं कर पाए हैं। गुजरात के 77 विधानसभा क्षेत्रों पर कांग्रेस और तीन पर इसके सहयोगी दलों का कब्जा है। 

भाजपा को एक विचारधारा बताते हुए शाह कहा, ‘‘भाजपा एक परिवार की नहीं, बल्कि विचारधारा की पार्टी है। विचारधारा के संघर्ष में कार्यकर्ताओं पर अत्याचार हुए और हमारे कार्यकर्ता आज भी बलिदान दे रहे हैं। 10 सदस्यों वाली पार्टी आज 11 करोड़ सदस्यों की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है।’’ उन्होंने साढ़े चार वर्ष के राजग सरकार के विकास कार्यो की चर्चा करते हुए कार्यकर्ताओं से सरकार की योजनाओं को सोशल मीडिया के माध्यम से आम जनता को बताने की सलाह दी। शाह ने 2013 में कांग्रेस कार्यकाल की चर्चा करते हुए कहा, ‘‘उस समय देश में नीतिगत लकवा मार गया था। देश का हर मंत्री खुद को प्रधानमंत्री मानता था, परंतु प्रधानमंत्री खुद को प्रधानमंत्री नहीं मानता था। इसके बाद नरेंद्र मोदी की हवा आई जो आंधी बनी और फिर सुनामी बन गई और फिर पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनी।’’ उन्होंने कांग्रेस के साथ राजद पर भी निशाना साधते हुए कहा, ‘‘वर्ष 2014 में सभी विपक्षी पार्टियां हमारे खिलाफ  लड़ी थीं और हमने सभी को हराकर ही सत्ता पाई थी। हम इन सभी को फिर से हराएंगे।’’ शाह ने जोर देकर कहा, ‘‘एनडीए से सिर्फ चंद्रबाबू नायडू गए हैं, लेकिन उनके बदले नीतीश कुमार आ गए हैं, तो क्या फर्क पड़ा।’’ इससे पहले, शाह के पटना स्थित ज्ञानभवन पहुंचने पर 101 शंख ध्वनियों से उनका स्वागत किया गया। इसके बाद उन्हें मखाने का माला पहनाकर सम्मानित किया गया।

जद (यू) के वरिष्ठ नेता क़े सी़ त्यागी ने बताया कि एक ही गठबंधन में शामिल दोनों वरिष्ठ नेताओं के बीच सौहार्दपूर्ण वातावरण में बातचीत हुई है, लेकिन अभी यह पहले ही दौर की बातचीत है। ऐसे में सीट बंटवारे को लेकर सारी बातें तय हो जाएंगी, इस पर संशय है। इससे पहले, शाह गुरुवार की सुबह करीब 10 बजे पटना हवाईअड्डे पहुंचे, जहां भाजपा के नेता और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय सहित कई केंद्रीय मंत्री और बिहार के मंत्री सहित बड़ी संख्या में कार्यकताओं ने उनका स्वागत किया। इधर, शाह के आगमन को लेकर पटना की सड़कें भाजपा के बैनर, पोस्टरों से भरी पड़ी हैं। शाह के आगमन को लेकर सुरक्षा के भी कड़े प्रबंध किए गए हैं। शाह शुक्रवार की सुबह दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे।

DainikSavera APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS

Web Title: amit shah meets nitish says jd u alliance with unity

Advertisement
Advertisement
Advertisement
free stats